माफ कीजिएगा, कोरोना ने मानवता भुला दी! जांच के नाम पर भटकता रहा पिता, बच्ची ने गोद में तोड़ा दम

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक बार फिर से मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. यहां सदर अस्पताल में इलाज नहीं मिलने के कारण एक आठ साल बच्ची की जान चली गई.

माफ कीजिएगा, कोरोना ने मानवता भुला दी! जांच के नाम पर भटकता रहा पिता, बच्ची ने गोद में तोड़ा दम
बच्ची ने गोद में तोड़ा दम (प्रतीकात्मक फोटो)

Muzaffarpur: बिहार के मुजफ्फरपुर में एक बार फिर से मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. यहां सदर अस्पताल में इलाज नहीं मिलने के कारण एक आठ साल बच्ची की जान चली गई. अस्पताल में इलाज के नाम पर डॉक्टर बच्ची के पिता को कोरोना जांच के लिए इधर-उधर भटकाते रहे. जिस वजह से बच्ची को सही समय से इलाज नहीं मिल सका और उसकी मौत हो गई. 

दरअसल, मंगलवार को बच्ची ने लीची का बीज निगल लिया था. जिस वजह से उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. इसके बाद बच्ची का पिता उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल लेकर गए. यहां बच्ची की हालत गंभीर थी. इसके बावजूद बच्ची का इलाज करने के बजाय डॉक्टरों ने उसे कोरोना जांच कराने के लिए भेज दिया. 

इस दौरान जांच के लिए बच्ची का पिता करीब 2 घंटे तक  इस विभाग से उस विभाग भटकता रहा. इस दौरान बच्ची की हालत बिगड़ती चली गई. पिता के बार-बार कहने के बाद भी डॉक्टरों ने बच्ची का इलाज करने की जहमत नहीं उठाई. जिस वजह से बच्ची की जान चली गई. 

ये भी पढ़ें- शादी से पहले पिता से नाराज हो गए थे नीतीश कुमार, फिर फणीश्वरनाथ ने भेजा था अपनी बेटी से विवाह का प्रस्ताव

मामले की जानकारी सामने आने के बाद सदर अस्पताल को लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है. इस दौरान सिविल सर्जन ने भी मामले की जांच का आदेश दे दिए है. उन्होंने कहा कि इस जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

(इनपुट-राजेंद्र मालवीय)