close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुंगेर:12 दिनों से बाढ़ में फंसे दंपत्ति की NDRF ने बचाई जान, छत पर लिया सहारा

इस गांव में लगभग 40 परिवार बसे हैं लेकिन बाढ़ की पानी को देख सभी लोग घर को छोड़कर इधर-उधर चला गए. लेकिन इसी गांव के एक दम्पति उमाकांत पासवान व उसकी पत्नी गीता देवी अपने पालतू जानवरों को छोड़कर नहीं गए.

मुंगेर:12 दिनों से बाढ़ में फंसे दंपत्ति की NDRF ने बचाई जान, छत पर लिया सहारा
जिलाधिकारी और अधिकारियों ने दम्पति को रेस्क्यू कर बचा लिया गया है.

मुंगेर: बिहार के मुंगेर जिले के छह प्रखंडों के 18 पंचायतों के कई गावों में बाढ़ का पानी लगभग 14 दिनों से घरों में घुसा हुआ है. वहीं, खड़गपुर प्रखंड का तेलडीहा पंचायत के कृष्णा नगर गांव में पिछले कई दिनों से बाढ़ आया हुआ है. 

इस गांव में लगभग 40 परिवार बसे हैं लेकिन बाढ़ की पानी को देख सभी लोग घर को छोड़कर इधर-उधर चला गए. लेकिन इसी गांव के एक दम्पति उमाकांत पासवान व उसकी पत्नी गीता देवी अपने पालतू जानवरों को छोड़कर नहीं गए. वहीं, धीरे-धीरे बाढ़ का पानी इस गांव में बढ़ता गया. दोनों पड़ोस के छत रहने लगे. उन्हें लगा था कि बाढ़ का पानी धीरे-धीरे एक दो दिन में चला जाएगा लेकिन उन्हें नहीं पचा था कि जिस पक्के मकान में रह रहे हैं वहां दस फीट से अधिक ऊपर तक पानी भर जाएगा.

दम्पति का बेटा जब प्रदेश से घर पहुंचा और नाव की व्यवस्था में जुटा पाने के बाद मीडिया को घटना जानकरी दी. इसकी सूचना जिलाधिकारी को दी गई लेकिन जिलाधिकारी और अधिकारियों ने दम्पति को रेस्क्यू कर बचा लिया गया है.

दोनों ने कहा है कि वो गांव में एक बार बाढ़ आया लेकिन कुछ दिन पानी चला गया लेकिन दूसरी बार फिर गांव में बाढ़ एक पानी घुस गया. इस बार भी हमें यही लगा कि पानी निकल जाएगा लेकिन पानी का लेवल बढ़ता चला गया और जिस घर में रह रहे थे वहा घर की छत तक पहुंच गया. चार दिनों से बस सूखा चुड़ा खा रहे हैं. 

खड़गपुर अंचलाधिकारी हलेन्द्र कुमार सिंह कहते है की सोमवार को सुचना मिली कि एक दम्पति बाढ़ के पानी में एक छत में फंसे हैं. सूचना मिलते ही हमलोगो ने आज एनडीआरएफ की टीम बुलाकर दम्पति सहित उनके जानवरों को रेस्क्यू कराया.

वहीं, दम्पति के बेटे ने बताया कि वो दिल्ली में मजदूरी का काम करते हैं. वहीं, मां- पिता ने फोन किया कि वो बाढ़ के पानी पड़ोस के घर में फंसे हुए है और जब रविवार को यहां पहुंचे और पहले नाव का इंतजाम कर निकालने की कोशिश की फिर एनडीआरएफ से मदद मिली.