झारखंड: ना ट्रैफिक सिग्नल काम कर रहे हैं, ना जेब्रा क्रॉसिंग, फिर भी वसूला जा रहा है जुर्माना

राजधानी रांची के विभिन्न चौक चौराहे पर बने ट्रैफिक पोस्ट पर कई जगहों पर सिग्नल नहीं जल रहे हैं. कई जगहों पर ज़ेबरा क्रॉसिंग और स्टॉप सिंबल मिट चुके हैं कई जगहों पर बड़े-बड़े गड्ढे भी हो चुके हैं.

झारखंड: ना ट्रैफिक सिग्नल काम कर रहे हैं, ना जेब्रा क्रॉसिंग, फिर भी वसूला जा रहा है जुर्माना
झारखंड: ना ट्रैफिक सिग्नल काम कर रहे हैं, ना जेब्रा क्रॉसिंग, फिर भी वसूला जा रहा है जुर्माना.

रांची: लॉकडाउन के दौरान रेड लाइट जंप करने वाले से करो 2 पहिया व चार पहिया वाहनों के चालान काटे गए. अब जुर्माना जमा कराने के लिए लोगों को जद्दोजहद करनी पड़ रही है लंबी लाइन में लगने के कारण पसीने छूट रहे हैं, लेकिन लोगों का गुस्सा ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर है. आधे से अधिक जगहों पर सिग्नल नहीं जल रहे हैं और कई ट्रैफिक पोस्ट पर स्टॉप और जेब्रा सिम्बल भी मिट चुके हैं. 

झारखंड के राजधानी रांची के विभिन्न चौक चौराहे पर बने ट्रैफिक पोस्ट पर कई जगहों पर सिग्नल नहीं जल रहे हैं. कई जगहों पर ज़ेबरा क्रॉसिंग और स्टॉप सिंबल मिट चुके हैं कई जगहों पर बड़े-बड़े गड्ढे भी हो चुके हैं.

रांची के एक्का चौक के बीचों-बीच सबसे व्यस्त इलाका होने की वजह से वहां लोगों की और वाहनों की काफी भीड़ होती है. ऐसे में महीनों से वहां लगे ट्रैफिक सिग्नल बंद पड़े हुए हैं.

वही रांची के जेल मोड़ पर ना तो ज़ेबरा क्रॉसिंग और ना ही स्टॉप सिंबॉल है. ना ट्रैफिक सिग्नल काम कर रहे हैं. यहां भी महीनों से खराब पड़े हुए हैं. इस ट्रैफिक पोस्ट से महज 100 मीटर की दूरी पर ट्रैफिक एसपी का कार्यालय है, लेकिन यहां व्यवस्था सबसे अधिक खराब है. 

ट्रैफिक पोस्ट पर तैनात कर्मियों की मानें तो वह लगातार वरीय अधिकारियों को सूचना देते हैं, लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती. बाइक सवार चालकों की मानें तो यहां स्टॉप सिंबल मिट चुका है और सिग्नल काम नहीं करने की वजह से उन्हें कहां रुकना है, यह पता नहीं चल पाता. ऐसे में ट्रैफिक रूल का पालन करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है.

इसके अलावा रांची के टोली चौक में रेड सिग्नल तो काम कर रहा है लेकिन स्टॉप और जेब्रा सिंबल मिट चुका है. यहां भी लोगों को पता ही नहीं चलता कि उन्हें रुकना कहां है और ऐसे में ट्रैफिक पोस्ट पर लगे कैमरे से उनका चालान कट जाता है. वाहन चालकों को ऐसे में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

आगे रांची के कचहरी स्थित ट्रैफिक एसपी के कार्यालय पर लोगों की लंबी कतार सरकारी फाइल जमा करने को लेकर लगी रहती है. वहां मौजूद लोगों में काफी आक्रोश देखने को मिला. 

लोगों की शिकायत है कि लॉकडाउन के दौरान लोगों को आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा है और ऐसे में इस तरह से आंख बंद करके जुर्माना वसूलना कहीं से जायज नहीं है. 25 मई का फाइन कटा हुआ नोटिस 3 जुलाई को पहुंचता है और ऐसे में सब काम छोड़ कर उन्हें घंटों लाइन में खड़ा रहना पड़ रहा है. 

उन्होंने कहा कि इस जुर्माने को जमा करने के लिए जुर्माना वसूलना ही है तो ऑनलाइन जमा करने की भी व्यवस्था होनी चाहिए ताकि लोगों का काम बाधित ना हो. साथ ही अन्य लोगों की मानें तो ट्रैफिक पोस्ट पर बड़े-बड़े गढ्ढ़े हो चुके हैं. ऐसे में लोग गड्ढे को देखेंगे या ट्रैफिक सिग्नल को राजधानी रांची के कई जगहों पर लेफ्ट हैंड मुड़ने पर भी चालान काटे जा रहे हैं.

इस व्यवस्था को बदलने की मांग कर रहे हैं इसके साथ ही जुर्माना वसूलने से पहले लोगों में ट्रैफिक रूल को लेकर जागरूकता अभियान चलाने की भी मांग कर रहे हैं

रांची के एसएसपी ने कहा कि आपके माध्यम से ये मामले मेरे संज्ञान में आया है. इस मामले पर हम जल्द काम करेंगे और स्मूथ ट्रैफिक व्यवस्था हमारी प्रायोरिटी है. संबंधित विभाग से बात कर व्यवस्था दुरुस्त करने की कोशिश की जाएगी.