close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: दत्तक ग्रहण केंद्र में 9 माह की बच्ची की संदेहास्पद स्थिति में मौत, जांच जारी

लापरवाही का आलम यह है कि दत्तक ग्रहण केंद्र का पिछले कई महीने से सीसीटीवी कैमरा भी खराब है. अब जांच में पता चलेगा कि अपनी गलतियों को छुपाने के लिए कैमरा खराब कर दिया गया या फिर पहले से खराब था. 

बिहार: दत्तक ग्रहण केंद्र में 9 माह की बच्ची की संदेहास्पद स्थिति में मौत, जांच जारी
नौ महीने की बच्ची की मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कैमूर: बिहार के कैमूर जिले के विशिष्ट दत्तक ग्रहण केंद्र भभुआ में 9 माह के अनुप्रिया की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई. मौजूद आया जब बच्ची को लेकर सदर अस्पताल आयी तो चिकित्सकों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया. ज्ञात हो कि टिस (TISS) की रिपोर्ट में भभुआ के विशिष्ट दत्तक ग्रहण केंद्र का हालत चिंताजनक बताया गया था. इसके बावजूद कर्मियों की लापरवाही के कारण एक बच्ची की जान चली गई.

लापरवाही का आलम यह है कि दत्तक ग्रहण केंद्र का पिछले कई महीने से सीसीटीवी कैमरा भी खराब है. अब जांच में पता चलेगा कि अपनी गलतियों को छुपाने के लिए कैमरा खराब कर दिया गया या फिर पहले से खराब था. पहले भी दत्तक ग्रहण केंद्र के बाल संरक्षण पदाधिकारी पर कोलकाता की दंपत्ति से बच्चे देने के एवज में डेढ़ लाख रुपए घूस मांगने का मामला उठ चुका है.

सूचना मिलने पर एसडीएम जन्मेजय शुक्ला और एसडीपीओ अजय प्रसाद ने जांच शुरू कर दी है. दोनों पदाधिकारियों ने बारीकी से देर रात तक जांच की. साथ ही कर्मियों से पूछताछ भी की. वहीं, एसडीएम जन्मेजय शुक्ला ने बताया कि दस्तक ग्रहण केंद्र में अनुप्रिया नामक बच्ची फरवरी महीने में बक्सर से आई थी. उसकी मौत की सूचना मिली है. पोस्टमार्टम कराया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

केंद्र में मौजूद आया ने बताया कि बच्ची बक्सर से फरवरी माह में आई थी. उस समय 4 दिन की थी. आज शाम सात बजे तक बच्ची खेल रही थी, लेकिन थोड़ी देर बाद देखा गया तो अचानक अपने बेड पर अचेत अवस्था में दिखी. पहले से तबीयत भी खराब नहीं थी. वहीं, बाल संरक्षण पदाधिकारी ने बताया कि बच्ची की घटना की जानकारी आया द्वारा दी गई है. बच्ची काफी स्वस्थ थी. घटना को लेकर जांच जारी है.