वैलेंटाइन पर नीतीश सरकार की अनोखी पहल, युगल प्रेमी देंगे पर्यावरण-प्रेम का संदेश

नीतीश सरकार युवक और युवतियों को पौधा देने के लिए प्रेरित कर रही है. इसको लेकर बिहार सरकार ने पटना के तमाम पार्कों और उद्यानों में पौधा वितरण काउंटर लगाने की योजान बनाई है. यहीं नहीं राज्य सरकार अन्य मौकों पर भी इसे लागू करने का मन बना चुकी है.

वैलेंटाइन पर नीतीश सरकार की अनोखी पहल, युगल प्रेमी देंगे पर्यावरण-प्रेम का संदेश
वैलेंटाइन डे के मौके पर नीतीश सरकार की अनोखी पहल, प्रेमी युगलों के जरिए देंगे पर्यावरण-प्रेम का संदेश.

पटना: बिहार सरकार ने जल जीवन हरियाली योजना को लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए युवाओं और युवतियों का साथ लिया है. वैलेंटाइन डे के मौके पर युगल प्रेमियों को राज्य सरकार अपनी तरफ से पौधा देगी. फुल के जगह और अन्य गिफ्ट के बजाए पौधा वितरण कर पर्यावरण और प्यार का संदेश देने की खास पहल की जाने वाली है.

नीतीश सरकार युवक और युवतियों को पौधा देने के लिए प्रेरित कर रही है. इसको लेकर बिहार सरकार ने पटना के तमाम पार्कों और उद्यानों में पौधा वितरण काउंटर लगाने की योजान बनाई है. यहीं नहीं राज्य सरकार अन्य मौकों पर भी इसे लागू करने का मन बना चुकी है.

पार्को में वैलेंटाइन डे के मौके पर स्टॉल लगाने को लेकर बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने आदेश जारी कर दिया है. मुख्य सचिव ने बताया है कि वैलेंटाइन डे के मौके पर युवक और युवतियां एक दूसरे को गिफ्ट देते हैं. लिहाजा, सरकार ऐसे मौके पर जल जीवन हरियाली योजना को लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए पौधा बांटेगी.

उन्होंने कहा कि ऐसे मौके पर पौधा गिफ्ट देने का रास्ता बनाया जाए. अन्य पर्व के मौके पर भी राज्य सरकार की ओर से पहल की जा रही है. अन्य गिफ्ट के बजाए पौधा वितरण किया जाए. मुख्य सचिव ने कहा कि बिहार सरकार अति महत्वाकांक्षी योजना जल जीवन हरियाली पर काम कर रही है. इस योजना पर राज्य सरकार बड़े पैमाने पर, जिला स्तर पर और ग्रामीण लेवल पर भी कई कार्यक्रम आयोजित किए.

मुख्य सचिव ने खुद सभी जिलों का भ्रमण कर आम लोगों से पौधारोपण करने के लिए अपील की है. मुख्य सचिव ने बताया कि जल जीवन योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष यानी मार्च तक बचे हुए समय में 3 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य है. बिहार का हरियाली क्षेत्र बढ़ाया जाने की कोशिश लगातार हो रही है. पर्यावरण को शुद्ध करने के लिए संतुलित करने के लिए इस तरह के स्टेप्स जरूरी हैं.