close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

UP में धोखा देने की तैयारी में थे JDU नेता, भनक लगते ही नीतीश कुमार ने उठाया यह कदम

 उत्तरप्रदेश में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की इकाई को भंग कर दिया गया है. यह फैसला बिहार के सीएम और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने लिया है. 

UP में धोखा देने की तैयारी में थे JDU नेता, भनक लगते ही नीतीश कुमार ने उठाया यह कदम
नीतीश कुमार ने यूपी में जेडीयू की सभी इकाईयों को भंग कर दिया है.

नई दिल्लीः उत्तरप्रदेश में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की इकाई को भंग कर दिया गया है. यह फैसला बिहार के सीएम और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने लिया है. उनके आदेश के बाद यूपी में स्थित जेडीयू पार्टी की सभी इकाई को बंद कर दिया गया है. वहीं, लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय में ताला जड़ दिया गया है. बताया जाता है कि यूपी के जेडीयू नेता पार्टी को ही धोखा देने की तैयारी में थे जिसकी भनक आलाकमान को लग गई थी.

खबरों के अनुसार, यूपी में जेडीयू की सभी इकाईयों को भंग करने का आदेश खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने दिया है. बताया जाता है कि पार्टी के आलाकमान को इस बात की भनक लगी थी कि पार्टी के नेता यहां दूसरे दलों में पनाह ढूंढ रहे थे. जिसके बाद नीतीश कुमार ने कड़ा फैसला लेते हुए यूपी की पूरी इकाई को भंग करने का आदेश दिया है.

यूपी में जेडीयू के नेता जो पार्टी को प्रतिनिधित्व कर रहे थे वह अब दूसरी पार्टियों में अपनी संभावनाएं तलाश रहे थे. इनमें नेताओं की संख्या काफी बड़ी बताई गई है. जिसके बाद पार्टी ने यूपी में पूरी इकाई को ही भंग करने का फैसला लिया है.

नीतीश कुमार के फैसले के बाद पूरे यूपी में पार्टी के सभी दफ्तरों पर ताला लटका दिया गया है. लखनऊ स्थित पार्टी ऑफिस में भी ताला लटका दिखा है. हालांकि अभी तक इस फैसले को लेकर यूपी के स्थानीय जेडीयू नेताओं की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. लेकिन पार्टी के इस फैसले से छोटे नेताओं के मुश्किलें खड़ी हो गई है.

जेडीयू ने कुछ माह पहले ही अपनी पार्टी को दूसरे राज्यों में मजबूत करने की बात कर रही थी. साथ ही इसके लिए विशेष बैठकें भी की गई थी, हालांकि इस बैठक के बाद शायद इस पहल को लेकर मजबूती से काम नहीं होता प्रतित हो रहा था. जिसके बाद यूपी के नेता दूसरे दलों में संभावनाएं तलाशने लगे.

बताया जा रहा है कि जेडीयू पार्टी के नेताओं को उम्मीद थी कि जेडीयू को लोकसभा चुनाव में यूपी में भी कुछ सीटों पर चुनाव लड़ने दिया जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ जेडीयू को केवल बिहार में ही एनडीए के अंदर सीट दी गई है. देखना यह है कि अब यूपी के जेडीयू नेता अगल रूख क्या अपनाते हैं.