CM नीतीश कुमार का RJD पर तंज, कहा- 'बिहार से भूत भागा और अब लालटेन की भी जरुरत नहीं'

वैसे ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार बिहार के लोगों को समय समय पर ये एहसास जरुर दिलाते रहते हैं कि बिहार पहले क्या था और आज की तारीख में बिहार कितना बदल चुका हूं.

 CM नीतीश कुमार का RJD पर तंज, कहा- 'बिहार से भूत भागा और अब लालटेन की भी जरुरत नहीं'
सीएम नीतीश कुमार ने भूतों को लेकर बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में कभी भूतों का बसेरा हुआ करता था. ये सुनने में थोडा अजीब जरुर लगता है लेकिन इसबात का खुलासा खुद बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने किया है.  वैशाली में बुद्ध सम्यक दर्शन संग्रहालय के शिलान्यास कार्यक्रम में पहुंचे सीएम ने भूतों को लेकर बड़ा बयान दिया है. सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार से भूत अब भाग चुका है और अब बिहार में लालटेन की भी जरुरत नहीं. दरअसल उद्घाटन कार्यक्रम में पहुंचे नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद पर इशारों ही इशारों में जमकर हमला बोला. साथ ही वैशाली में बनने वाले बुद्ध दर्शन संग्रहालय की खास जानकारियों से भी लोगों को रुबरु कराया. 

मौका कोई भी हो सियासत करने वाले सियासत नहीं भूलते हैं. वैसे ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार बिहार के लोगों को समय समय पर ये एहसास जरुर दिलाते रहते हैं कि बिहार पहले क्या था और आज की तारीख में बिहार कितना बदल चुका हूं.

 वैशाली में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम नीतीश ने कुछ ऐसी ही बातों का जिक्र कर दिया जिसपे एकाएक भरोसा करना मुश्किल होता है. लेकिन सियासत के लहजे से देखें तो सीएम नीतीश ने बड़ा बयान दे दिया है. सीएम नीतीश ने कहा कि पहले बिहार में बिजली नहीं थी. रात के वक्त मां अपने बच्चों को घर से बाहर निकलने नहीं देती थीं. मां बच्चे को समझाती थी कि बाहर मत जाओ घर के बाहर भूत है. लेकिन आज बिहार के हर घर में बिजली है. भूत बिहार छोड़ कर भाग चुका है और यहां अब लालटेन की भी जरुरत नहीं है. 

दरअसल सीएम नीतीश कुमार बिहार के वैशाली में बुद्ध सम्यक दर्शन संग्रहालय के शिलान्यास सह कार्यारंभ कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे. कार्यक्रम के दौरान नीतीश कुमार के साथ डीप्टी सीएम सुशील मोदी, भवन निर्माण विभाग के मंत्री महेश्वर हजारी और कला संस्कृति मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि भी मौजूद थे. कार्यक्रम में मौजूद स्थानीय लोगों के बीच नीतीश कुमार ने बिहार के बदलते स्वरुप की तस्वीर पेश की. 

नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार बदल चुका है. उनकी सरकार आने के बाद विकास के काम हुए है. यहां तक वैशाली का भी स्वरुप उन्होंने काफी हद तक बदलने की कोशिश की है. नीतीश कुमार ने कहा कि वैशाली में   72 एकड़ जमीन पर आलीशान भगवान बुद्द का संग्रहालय बन रहा है. ये संग्रहालय आम संग्रहालय से अलग होगा. इसका निर्माण पत्थरों से कराया जाएगा जिसकी उम्र सीमा एक हजार साल से भी ज्यादा होगी.

सीएम ने कहा कि भगवान बुद्ध से जुड़े वास्तविक अवशेष यहां रखे जाएंगे. विपश्यना केंद्र का भी निर्माण कराया जाएगा. संग्रहालय इतना भव्य होगा कि लोग इसे देखने जरुर आएंगे. सीएम ने कहा कि वैशाली में बननेवाले इस नये संग्रहालय से स्थानीय स्तर पर रोजगार के ढेर सारे अवसर पैदा होंगे. जिसका फायदा वैशाली के लोगों को मिलेगा.  

वहीं सीएम नीतीश ने कहा कि वैशाली के अभिषेक पुष्करणी को भी पुनर्जीवित किया जाएगा. अभिषेक पुस्करणी आज की तारीख में सूख चुका है लेकिन इसे फिर से जीवंत किया जाएगा. सोलर पंप के जरिये लगातर पानी आता रहे ये व्यवस्था की जाएगी. संग्रहालय का निर्माण  समय से पहले हो जाय ये भी कोशिश की जाएगी. संग्रहालय को लेकर उससे जुडनेवाले अप्रोच रोड भी दुरुस्त किए जाएंगे. हमारी कोशिश है कि बोध गया से वैशाली तक 4 लेन रोड से पर्यटक यहां आएं. जो विदेशी पर्यटक बोध गया आएं वो वैशाली जरुर आएं ये भी कोशिश की जाएगी.  

कार्यक्रम में मौजूद डिप्टी सीएम  सुशील मोदी ने भी बनने वाले नये संग्रहालय को लेकर खुशी जताई. संग्रहालय निर्माण के बाद गया के साथ साथ वैशाली में भी विदेशी पर्यटकों के बडी तादाद में प्रवास किये जाने की भी बात कही.

 सुशील मोदी ने कहा कि भगवान बुद्ध की अस्थियां और कलश केंद्र को यहां रखा जायेगा. 300 करोड़ की लागत से ये संग्रहालय बन रहा है. संग्रहालय बनने के बाद बड़ी तादाद में विदेशी पर्यटक यहां आएंगे. वैशाली के लोगो की ये पुरानी आकांक्षा थी जो आज पूरी हो रही है.