झारखंड में 1 भी जिला रेड जोन में नहीं, खूंटी-साहेबगंज ग्रीन जोन में शामिल: स्वास्थ्य सचिव

झारखंड में वर्तमान में कुल 106 कंटेनमेंट जोन चिन्हित किए गए हैं. इसमें 14 दिनों तक कोई भी मरीज नहीं मिलने पर जिला प्रशासन कंटेनमेंट फ्री कर सकता है.

झारखंड में 1 भी जिला रेड जोन में नहीं, खूंटी-साहेबगंज ग्रीन जोन में शामिल: स्वास्थ्य सचिव
झारखंड में 1 भी जिला रेड जोन में नहीं, खूंटी-साहेबगंज ग्रीन जोन में शामिल: स्वास्थ्य सचिव. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सौरभ शुक्ला/रांची: स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने बताया कि, राज्य में एक भी जिला रेड जोन (Red Zone) में नहीं है. यह आईसीएमआर (ICMR) द्वारा जारी नए गाइडलाइन के तहत हैं. खूंटी, साहेबगंज और पाकुड़ ही झारखंड में ग्रीन जोन (Green Zone) में हैं. बाकी सभी जिले ऑरंज जोन (Orange Zone) में है.

झारखंड में वर्तमान में कुल 106 कंटेनमेंट जोन चिन्हित किए गए हैं. इसमें 14 दिनों तक कोई भी मरीज नहीं मिलने पर जिला प्रशासन कंटेनमेंट फ्री कर सकता है. उन्होंने बताया कि, झारखंड में सबसे अधिक प्रवासी मुंबई से लौटे हैं. जिनमें से 9378 लोगों के सैंपल की जांच की गई है. जिसमें 1 प्रतिशत लोग पॉजिटिव मिले हैं.

अप्रैल में 26 हजार महिलाओं की हुई डिलीवरी
सुरत से लौटे लोगों में 0.86 प्रतिशत लोग ही पॉजिटिव मिले हैं. कोलकाता से लौटे लोगों में 0.6 और दिल्ली से लौटे 0.56 प्रतिशत लोग पॉजिटिव मिले हैं. इसके अलावा नितिन मदन कुलकर्णी ने बताया कि, अप्रैल महीने में पूरे राज्य में 26870 महिलाओं की डिलीवरी कराई गई है. जिसमें 1235 सिजेरियन कराए गए हैं.

200 ट्रेनों को मिली NOC
वहीं, झारखंड के नोडल अधिकारी एपी सिंह ने कहा कि, 102 ट्रेनों से 1 लाख 38 हजार लोग झारखंड पहुंचे हैं. जबकि 200 ट्रेनों एनओसी को मिल चुकी है. ये सभी ट्रेनें 29 मई तक झारखंड पहुंच जाएंगी. 102 ट्रेनों के अलावा 14 ट्रेनों से 19500 लोगों के आने की संभावना है. इसके अलावा सरकार के आकलन के अनुसार, करीब 3 लाख 60 हजार लोग वापस लौटेंगे. इतने लोगों ने ही मुख्यमंत्री द्वारा प्रवासियों को भेजे जा रहे पैसों के लिए आवेदन किया था.

एपी सिंह ने कहा कि, ट्रेन के अलावा बस और अन्य माध्यमों से 1 लाख 1 हजार 229 लोग वापस आएं हैं. इसके अलावा करीब 7500 लोगों के अन्य माध्यमों से आने का आकलन किया गया है. इसके अलावा झारखंड के बाहर 1 लाख 18 हजार 570 लोग राज्य से बाहर भी गए हैं.

विदेश से आए 18 लोग
वहीं, झारखंड के एक जिले से दूसरे जिले में जाने वालों की संख्या 1 लाख 63 हजार है. एपी सिंह ने बताया कि, फ्लाइट से अबतक झारखंड के 18 लोग विदेशों से लौटे हैं, जिसमें से 13 झारखंड के पेड क्वारेंटाइन सेंटर में हैं और पांच अन्य जगहों पर क्वारेंटाइन किए गए हैं. हवाई मार्ग से झारखंड के 1300 लोगों के आने की संभावना है.

गौरतलब है कि, राज्य में कुल 7042 क्वारेंटाइन सेंटर में प्रति व्यक्ति खाने पर 60 रुपए खर्च हो रहे हैं. झारखंड में सरकार  कोरोना से लड़ने के लिए वर्तमान में 7042 क्वारेंटाइन सेंटर उपलब्ध हैं. जिसमें राज्य के बाहर से आए सभी सस्पेक्टेड लोगों को क्वारेंटाइन में रखा जा रहा है. राज्य सरकार ने कोविड 19 रीलिफ फंड के लिए 74 करोड़ 53 लाख 28 हजार का फंड अलॉटमेंट किया है. क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों के लिए एक दिन के खाने के लिए 60 रुपये प्रति व्यक्ति अलॉट किए गए हैं.