close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार बाढ़: ओडिशा सीएम नवीन पटनायक करेंगे राज्य की मदद, नीतीश कुमार से की बात

पटना के कंकड़बाग, दानापुर और राजेंद्र नगर जैसे इलाकों में जलजमाव की समस्या बारिश खत्म होने के तीन दिन बाद भी नहीं हुई है. 

बिहार बाढ़: ओडिशा सीएम नवीन पटनायक करेंगे राज्य की मदद, नीतीश कुमार से की बात
ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में तीन दिनों की मुसलाधार बारिश से पटना सहित कई राज्यों को भारी नुकसान हुआ है. पटना के कंकड़बाग, दानापुर और राजेंद्र नगर जैसे इलाकों में जलजमाव की समस्या बारिश खत्म होने के तीन दिन बाद भी नहीं हुई है. 

इससे लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. वहीं, बिहार में बाढ़ की स्थिति को लेकर ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया है. उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से बात कर बाढ़ के हालातों पर चर्चा की. 

सीएम नवीन पटनायक ने बिहार की मदद करने के लिए आगे आए हैं. आपको बता दें कि पहले बारिश और बाढ़ की मार झेलने के बाद लोग जलजमाव से उबरे भी नहीं है कि महामारी का खतरा बढ़ रहा है. बिहार में डेंगू के 600 मामले सामने आए हैं. वहीं, पटना में महज दो दिनों में 58 नए मरीजों की पुष्टि हुई है.

एक ओर जहां डेंगू लगातार पैर पसार रहा है वहीं, दूसरी ओर निगम की डेंगू से निपटने की तैयारी अधुरी दिख रही है. डोर टू डोर कचरा उठाव भी ठप पड़ गया है. नगर निगम द्वारा कुछ इलाकों में ही ब्लिचिंग पाउडर का छिड़काव किया गया है. एसके पुरी, कदमकुआं, ठाकुरबाड़ी, दरियापुर में छिड़काव किया गया है लेकि कुछ इलाकों में अभी भी यह बाकी है. 

महामारी और बीमारी को देखते हुए जिला स्वास्थ्य सेवा समिति ने बाढ़ पीड़ितों के बीच मेडिकल किट भेजने का फैसला किया है. पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में ये मेडिकल किट तैयार की जा रही है जिसमें पारासीटामोल, ओआरएस पैकेट, हेलोजेन टेबलेट, सहित छह तरह की गोलियां और टेबलेट हैं. इसे पटना के राजेन्द्र नगर, कंकड़बाग के साथ-साथ दूसरी जगहों में भेजा जाएगा. 

वहीं, दूसरी तरफ पुनपुन नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. पुनपुन नदी के सकरैची पंचायत समेत कई गांवों में बाढ़ का पानी कई मकानों में घुस गया है. पटना से गया जाने वाली रेलवे लाइन तक पानी पहुंच गई है. सबसे बड़ी बात है कि हर दो घंटे में नदी के पानी का लेवल बढ़ता जा रहा है.