बिहार: गंगा पार जाने वालों को मिलेगी राहत, गांधी सेतू के बगल में बनेगा एक और पुल

बैठक में पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा, विशेष सचिव दिवेश सेहरा, अभियंता प्रमुख भवानी नंदन, एनएचएआई के क्षेत्रीय पदाधिकारी आरपी सिंह, एनएचएआई के महाप्रबंध एएन सिंह, राष्ट्रीय उच्च पथ के मुख्य अभियंता सहित कई अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

बिहार: गंगा पार जाने वालों को मिलेगी राहत, गांधी सेतू के बगल में बनेगा एक और पुल
2900 करोड़ की लागत से बननेवाले छह लेन के पुल का टेंडर निकला गया है.

पटना: बिहार की राजधानी पटना को उत्तर बिहार से जोड़नेवाले गांधी सेतु के समानांतर एक और पुल बनाया जाएगा. 2900 करोड़ की लागत से बननेवाले छह लेन के पुल का टेंडर निकला गया है. इसी वित्तीय वर्ष यानी मार्च तक पुल का काम करनेवाली एजेंसी को वर्क आर्डर जारी कर दिया जाएगा, ताकि एजेंसी अपने हिसाब से काम कर सके.

इसकी जानकारी पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने एनएच से जुड़ी परियोजनाओं की समीक्षा बैठक के दौरान दी. पथ निर्माण मंत्री बिहार में राष्ट्रीय उच्च पथ की क्रियान्वित की जा रही परियोजनाओं की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे. बैठक में पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा, विशेष सचिव दिवेश सेहरा, अभियंता प्रमुख भवानी नंदन, एनएचएआई के क्षेत्रीय पदाधिकारी आरपी सिंह, एनएचएआई के महाप्रबंध एएन सिंह, राष्ट्रीय उच्च पथ के मुख्य अभियंता सहित कई अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

नंदकिशोर यादव ने बताया कि मधेपुरा जिला में कोशी नदी पर 1500 करोड़ की लागत से बनने वाले फुलौत पुल की निविदा इसी वित्तीय वर्ष में आमंत्रित करने का निर्देश दिया गया. इसके अतिरिक्त विक्रमशीला सेतु के समानांतर नये पुल के निर्माण की स्वीकृति के लिएसभी औपचारिकताएं शीघ्र पूरी करते हुए अप्रैल, 2020 तक योजना की स्वीकृति मंत्रालय से प्राप्त किए जाने का भी निर्देश विभागीय पदाधिकारियों को दिया गया.

पथ निर्माण मंत्री ने बताया कि एनएचएआई की ओर से राज्य में संचालित परियोजनाओं में से पूर्णियां-नरेनपुर (एनएच-131ए), बख्तियारपुर-रजौली (एनएच-31) और आरा-मोहनियां (एनएच-30) के 4-लेनिंग कार्य की निविदा इसी वित्तीय वर्ष में आमंत्रित करने को कहा गया है. इसके अतिरिक्त पटना रिंग रोड में शेरपुर-दिघवारा के बीच गंगा नदी पर 6 लेन पुल तथा कन्हौली-रामनगर पथ के 4-लेनिंग कार्य  की स्वीकृति प्राथमिकता के आधार पर करते हुए इसका निविदा शीघ्र निर्गत किए जाने का निदेश के पदाधिकारियों को दिया गया.

श्री यादव ने बताया कि एनएच 83 (पटना-गया-डोभी पथ) के पुनर्निर्माण के लिए निविदा प्राप्त कर ली गई है. साथ ही एनएच 83 के बेलागंज-चाकंद-गया-डोभी पथांश को अगले 15 दिनों के अन्दर पॉटलेस कर सुगम यातायात योग्य बनाने को कहा गया. एनएच 19 के विष्णुपुरा-भैरोपुर-निजामत पथांश का निर्माण कार्य एक सप्ताह में पूर्ण कराने के साथ ही इस परियोजना के बाकी कार्यों को जून, 2020 तक हर-हाल में पूर्ण करने का निर्देश दिया गया.