close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: बेतिया जिले का एक ऐसा पंचायत जहां लगाए गए 25 हजार पेड़, 125 परिवारों को मिला रोजगार

जिला का यह नौतन प्रखण्ड का बैकुण्ठवा पंचायत में लगभग 25 हजार मनरेगा के तहत पौधे लगाए गए हैं. सागवान, आंवला, जामुन, अमरुद, आम, अर्जून आदि किस्म के पौधे सड़क के किनारे व नहरों के किनारे लगे हुए हैं. 

बिहार: बेतिया जिले का एक ऐसा पंचायत जहां लगाए गए 25 हजार पेड़, 125 परिवारों को मिला रोजगार
मनरेगा से इस पंचायत में 125 परिवारों को रोजगार भी मिला है.

बेतिया: बिहार के बेतिया जिला का एक ऐसा पंचायत जहां हरियाली ही हरियाली है और मनरेगा से लगाए गए पौधे पंचायत को हरा भरा बना रही है. जिला का यह नौतन प्रखण्ड का बैकुण्ठवा पंचायत में लगभग 25 हजार मनरेगा के तहत पौधे लगाए गए हैं. सागवान, आंवला, जामु न, अमरुद, आम, अर्जून आदि किस्म के पौधे सड़क के किनारे व नहरों के किनारे लगे हुए हैं. मनरेगा से इस पंचायत में 125 परिवारों को रोजगार भी मिला है. यह 125 वनपोषक 365 दिन पौधों का देख रेख करती है, इन वनपोषकों को 1400 रुपया प्रतिमाह सरकार सैलेरी भी देती है.

यही नहीं मनरेगा और हरियाली मिशन के तहत बैकुण्ठवा पंचायत में लाखों की विकास योजना धरातल पर है. मनरेगा के तहत लगभग 50 लाख की योजना से वृक्षारोपण, मिट्टी भराई, पीसीसी आदि कार्य कराए गए हैं. वहीं, हरियाली मिशन के तहत पौधों के लिए लगभग 13 हजार सुरक्षा कवच लगभग 13 हजार लगाये गए हैं. वहीं, सुरक्षा कवच बनाने के क्रम में सैकड़ो मजदूरों को रोजगार भी मिला है.

 

पंचायत में 14वीं वित्त आयोग से तीस लाख की योजना से ईंट सोलिंग पीसीसी बनाये गए हैं. वहीं, डेढ़ करोड़ की लागत से जल नल योजना धरातल पर उतारी गई है. पंचम वित्त आयोग से 20 लाख की राशी पंचायत में विकास के लिए खर्च किए गए हैं. पंचायत में लगभग तीन सौ पीएम आवास बनाये गए हैं. वहीं वृद्धा पेंशन 1600 पेंशनधारियों को दिया जाता है.

मनरेगा और हरियाली मिशन के तहत बैकुण्ठवा पंचायत हरा भरा तो है ही साथ ही साथ राज्य सरकार और केंद्र सरकार के करोड़ों रुपये के योजनाओं से पंचायत हरा भरा व खुशहाल है. अभी तक राज्य व केंद्र की योजनाओं से लगभग 6 करोड़ 70 लाख की राशी पंचायत पर खर्च कर दी गई है.

वहीं, पंचायत के वनपोषक मीना देवी व अन्य का कहना है कि यह हमारा पंचायत चम्पारण का सबसे हरा भरा पंचायत है और सबसे अधिक पेड़ पौधे हैं. लेकिन सरकार से हमारी गुजारिश है कि हमारी सैलरी सरकार कुछ और बढ़ा दे. पंचायत के मुखिया अरुण कुमार का कहना है कि जिला में सभी पंचायतों से सबसे अधिक पेड़ पौधे मनरेगा और हरियाली मिशन के तहत हमारे पंचायत में लगे हैं.