बिहार चुनाव: अपनी हार देखकर छल-बल की कुत्सित राजनीति पर उतर आई है विपक्ष- संजय जायसवाल

डॉ जायसवाल ने कहा कि रोहतास की चुनावी सभा में लालटेन छाप युवा नेता जातिगत उन्माद से भरी भाषा का प्रयोग कर आरजेडी काल की पुरानी यादों को ताजा कर दिया है. समाज को बांट कर वोट पाने की कोशिश इनकी पुरानी फितरत है.

बिहार चुनाव: अपनी हार देखकर छल-बल की कुत्सित राजनीति पर उतर आई है विपक्ष- संजय जायसवाल
बिहार चुनाव: अपनी हार देखकर छल-बल की कुत्सित राजनीति पर उतर आई है विपक्ष- संजय जायसवाल.

पटना: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल (Sanjay Jaisawal) ने कहा है कि लोकतंत्र के महापर्व में बुधवार को पहली आहुति है. इस महापर्व में जनता-जनार्दन का आशीर्वाद एनडीए को ही मिलेगा, क्योंकि चुनाव 'विनाश' बनाम 'विकास' के बीच है.

डॉक्टर जायसवाल ने आज यहां कहा कि बिहार की जनता ने 15 साल पहले का विनाश भी देखा है और फिर उसके 15 साल बाद एनडीए के शासनकाल में बिहार का विकास भी देखा है. इसलिए बिहार के लोगों के सामने कोई दुविधा की स्थिति नहीं है. बिहार की जनता एनडीए के उम्मीदवारों के पक्ष में गोलबंद हो चुकी है. राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में उनके सघन दौरे में भी यही परिलक्षित हुआ है.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि विपक्षी दल अपनी हार को देखते हुए छल-बल की कुत्सित राजनीति पर उतर आए हैं. लोगों को जाति, धर्म और वर्ग के आधार पर बांटने की कोशिश में जुटे हैं. विपक्ष के लोग जाति और धर्म के नाम पर वोट मांग रहे हैं. यही नहीं, लालटेन छाप नौंवीं पास युवा नेता अगड़ी जातियों के खिलाफ लगातार बयानबाजी कर उन्हें अपमानित कर रहे हैं.

डॉ जायसवाल ने कहा कि रोहतास की चुनावी सभा में लालटेन छाप युवा नेता जातिगत उन्माद से भरी भाषा का प्रयोग कर आरजेडी काल की पुरानी यादों को ताजा कर दिया है. समाज को बांट कर वोट पाने की कोशिश इनकी पुरानी फितरत है. लेकिन, इस बार इनका दांव चलने वाला नहीं है. 

बिहार की जनता विकास के नाम पर वोट करेगी और एनडीए के प्रत्याशी भारी मतों से जीत हासिल करेंगे.