बिहार: गया के मानपुर में क्राइम आउट ऑफ कंट्रोल, एक साल में 17 मर्डर की घटनाएं

बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि यह चिंता का विषय है. उन्होंने पुलिस को जल्द से जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कहा है. कृषि मंत्री ने कहा अपराधियों के खिलाफ सरकार सख्त कारवाई कर रही है.

बिहार: गया के मानपुर में क्राइम आउट ऑफ कंट्रोल, एक साल में 17 मर्डर की घटनाएं
बिहार के गया में अपराध आउट ऑफ कंट्रोल. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गया: बिहार के गया के फल्गु नदी के दूसरी छोर पर बसा मानपुर प्रखंड की अपनी एक अलग पहचान है. देश ही नहीं विदेशों में भी इस क्षेत्र के लोग आईआईटी के क्षेत्र में लोहा मनवा रहे हैं. लेकिन अब इस क्षेत्र के लोग आउट ऑफ कंट्रोल क्राइम से भयभीत हैं. 2019 की शुरुआत से लेकर अब तक हत्या की 17 बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं. यहां के लोग अपने बच्चों को स्कूल भेजने में भी डर रहे हैं. वहीं, जिला के पुलिस कप्तान भी अपराध ज्यादा होने की बात कहकर अपनी नाकामी छुपा रहे हैं.

राज्य में लगातार अपराधिक घटनाएं बढ़ रही हैं. इसी कड़ी में गया शहर से सटे मानपुर प्रखंड के बुनियादगंज और मुफस्सिल थाना से पिछले 11 महीने में रेप, लूट, छिनतई छोड़कर हत्या की 17 बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं. इससे यहां के लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. सरकार के मंत्री भी इसपर चिंता जाहिर कर रहे हैं. वहीं पुलिस कप्तान भी क्षेत्र में अपराध ज्यादा होने की बात कह कर पल्ला झाड़ रहे हैं.

मानपुर के पटवाटोली को बिहार का मैनचेस्टर भी कहा जाता है. यहां के बच्चे आईआईटी में अधिक संख्या में सफल होते हैं, लेकिन जैसे इस क्षेत्र को नजर लग गई है. साल के शुरुआती दिनों में हुई अंजना हत्याकांड के बाद से हत्याओं का सिलसिला जारी रहा. मानपुर क्षेत्र में मुफस्सिल और बुनियादगंज दो थाने हैं. दोनो थानों में कई बार थानाध्यक्ष से लेकर डीएसपी बदले जा चुके हैं, लेकिन अपराधिक घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है.

स्थानीय लोगों की मानें तो वे डरे सहमे रहते हैं. बच्चे स्कूल जाते हैं तो हमेशा डर बना रहता है. पहले ऐसा नहीं था, लेकिन इस साल तो लगातार हत्याएं हो रही हैं. ज्यादातर मामलों में पुलिस हत्या की गुत्थी अभी तक नहीं सुलझा पाई है. लोगों को सड़क पर चलने से डर लगता है कि किस अपराधी की गोली किसको लग जाये.

वहीं, मानपुर संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के द्वारा ऐसे मामलों को सड़क जाम और पुतला दहन किया गया है. ताकि पुलिस पर दबाव बनाया जा सके. उन्होंने बताया कि अंजना हत्याकांड से लेकर राहुल हत्याकांड तक दर्जनों बार सड़क जाम, जुलूस, मार्च, धरना प्रदर्शन किया गया है. लेकिन सरकार और पुलिस पर इसका कोई असर नहीं हुआ.

वहीं, कुछ दिन पूर्व राहुल की हत्या होने के बाद मानपुर संघर्ष मोर्चा द्वारा मानपुर बंद का आह्वान करने के बाद पुलिस अलर्ट हुई और दोनों थाना क्षेत्र से छोटे मोटे 30 वारंटियों को गिरफ्तार किया. एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि अपराधियों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया जा रहा है. दो दिन पहले दोनों थाना क्षेत्र से 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि मानपुर प्रखंड में अपराधियों की संख्या ज्यादा होने से अपराध बढ़ा है, लेकिन जल्द ही सभी आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी.

बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि यह चिंता का विषय है. उन्होंने पुलिस को जल्द से जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कहा है. कृषि मंत्री ने कहा अपराधियों के खिलाफ सरकार सख्त कारवाई कर रही है.