पप्पू यादव का बिहार सरकार पर बड़ा हमला, कहा- सत्ता के संरक्षण में हो रही हत्याएं

पप्पू यादव ने कहा कि बिहार में अपराधियों के निशाने पर लगातार व्यवसायी हैं. व्यवसायियों की हत्या का दौर जारी है और सरकार चुप है. 

पप्पू यादव का बिहार सरकार पर बड़ा हमला, कहा- सत्ता के संरक्षण में हो रही हत्याएं
पप्पू यादव ने लॉ एंड ऑर्डर को लेकर सरकार पर साधा निशाना. (फाइल फोटो)

पटना : जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने शनिवार को कहा कि बिहार में कोई भी सुरक्षित नहीं है. हर दिन व्यापारियों की हत्या हो रही है. ये हत्याएं सत्ता के संरक्षण में हो रही हैं. उन्होंने कहा कि आज नेताओं को तलाक की चिंता है, लेकिन दुष्कर्म की चिंता नहीं है. बिहार की कानून व्यवस्था सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर पटना के गर्दनीबाग में जन अधिकार पार्टी के तत्वावधान में आयोजित एक दिन की भूख हड़ताल और धरना के मौके पर पप्पू यादव ने कहा कि मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर की हत्या के आरोपी पिंटू सिंह को बीजेपी के लगभग सभी नेता सम्मानित करते हैं. व्यवसायी अखिलेश जयसवाल से जेडीयू विधायक पप्पू पांडे रंगदारी मांगते हैं और जान से मारने की धमकी देते हैं.

उन्होंने कहा कि बिहार में अपराधियों के निशाने पर लगातार व्यवसायी हैं. व्यवसायियों की हत्या का दौर जारी है और सरकार चुप है. 

एनडीए के लिए 'न्याय के साथ विकास' की बात को जुमला करार देते हुए सांसद ने तीन तलाक विधेयक को लेकर कहा कि आज देश में तलाक की घटनाओं का प्रतिशत 0.006 है, जबकि दहेज की घटनाओं का प्रतिशत 11.2 है. नेताओं को इस पर चिंता क्यों नहीं होती? सत्ताधारी नेता आज तलाक और अन्य धार्मिक मुद्दों पर नफरत की राजनीति कर रहे हैं. 

उन्होंने कहा कि निर्भया, दामिनी दुष्कर्मकांड के बाद से अब तक पुलिस के पास 1.64 लाख दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए हैं, मगर इन नेताओं की चिंता इस पर क्यों नहीं है?

पप्पू यादव ने जोर देकर कहा, 'हमारी पार्टी हमेशा जनता के मुद्दे पर संघर्ष करती रही है. यही वजह है कि शुक्रवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुलायम सिंह, वित्तमंत्री अरुण जेटली के समक्ष तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने जनता के सवाल पर इस तरह से संघर्ष करने वाले व्यक्ति को अपनी लाइफ में नहीं देखा है.'

इस एक दिनी अनशन में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अखलाक अहमद, उपाध्यक्ष अजय कुमार बुल्गानीन, रघुपति सिंह, राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, राष्ट्रीय महासचिव प्रेमचंद सिंह सहित कई नेता मौजूद रहे.