close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची: ब्लड बैंक की लापरवाही, परिजनों ने लगाया रिम्स प्रशासन पर आरोप

झारखंड की राजधानी रांची में ब्लड बैंक की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है जिसकी वजह से पांच बच्चे एचआईवी का शिकार हो गए तो वहीं तीन बच्चों को हेपेटाइटिस सी के शिकार हो गए हैं. 

रांची: ब्लड बैंक की लापरवाही, परिजनों ने लगाया रिम्स प्रशासन पर आरोप
परिजन आरोप लगा रहे हैं रिम्स में चढ़ाया गया खून ही संक्रमित है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांचीझारखंड की राजधानी रांची में ब्लड बैंक की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है जिसकी वजह से पांच बच्चे एचआईवी का शिकार हो गए तो वहीं तीन बच्चों को हेपेटाइटिस सी के शिकार हो गए हैं. 

इस मामले में जी मीडिया पांच बच्चों में से एक बच्चे के घर पहुंचा और परिजनों का आरोप है कि ब्लड बैंक से ही संक्रमित खून चढ़ाया गया. उनका कहना है कि दस साल से चले आ रहे इलाज के दौरान एचआईवी पॉजीटिव नहीं था. 

परिजनों ने बताया कि रिम्स में पिछले तीन साल से ब्लड चढ़ाया जा रहा था. बल्ड चढ़ाने के पहले हमेशा सैंपल लिया जाता था लेकिन कभी एड्स का रिपोर्ट नहीं दिया गया. उनका कहना है कि जुलाई 2018 में आखिरी बार खून चढ़ाया जा रहा है. 

बच्चे के परिजन जब अगस्त महीने में इलाज कराने के लिए गए तो जांच कराया गया. जांच में एचआईवी पॉजेटिव की पुष्टि हुई. इसके बाद से परिजन आरोप लगा रहे हैं रिम्स में चढ़ाया गया खून ही संक्रमित है. हालांकि इस मामले पर अभी तक किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं आई है और ना ही इस पर प्रशासन गंभीरता दिखा रहा है. 

आपको बता दें कि एचआईवी पॉजिटिव पाए गए इन पांच बच्चों में दो रांची, दो झालदा और एक हजारीबाग के हैं. एचआईवी पॉजिटिव पाए गए तीनों बच्चे रांची जिले के हैं. इनकी औसत उम्र 08 से 13 साल है.