close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना बारिश: नहीं कम हुई लोगों की परेशानी, राजेंद्र नगर में अभी भी जलजमाव की स्थिति

48 घंटे में 330 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हुई थी, जिसने पूरे शहर की परेशानी बढ़ा दी थी. बारिश ने नगर निगम की व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी थी.

पटना बारिश: नहीं कम हुई लोगों की परेशानी, राजेंद्र नगर में अभी भी जलजमाव की स्थिति
शुक्रवार को राजेंद्र नगर कॉलोनी की स्थिति. (तस्वीर- ANI)

पटना: बिहार की राजधानी पटना (Patna Rain) के कुछ हिस्सों में जलजमाव की स्थिति लगातार बरकरार है. राजेंद्र नगर कॉलोनी (Rajendra Nagar) के लोगों को फिलहाल इससे राहत मिलने की उम्मीद नहीं दिख रही है. पानी निलने में अभी भी तीन दिन और लगेंगे. बीते नौ दिनों से कॉलोनी में जलजमाव की स्थिति बनी हुई है. बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) तक इसमें तीन दिनों तक फंसे रहे. उन्हें एसडीआरएफ ने रेसक्सू कर निकाला गया था.

राजेंद्र नगर कॉलोनी में सात से आठ फीट तक पानी जमा था. 48 घंटे में 330 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हुई थी, जिसने पूरे शहर की परेशानी बढ़ा दी थी. बारिश ने नगर निगम की व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी थी.

एक तरफ लोग जलजमाव से परेशान हैं वहीं, नेता सियासत से बाज नहीं आ रहे हैं. आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है. पहले मामले पक्ष बनाम विपक्ष का था, अब तो बीजेपी-जेडीयू आपस में लड़ रही है. बीजेपी की तरफ से पार्टी के फायरब्रांड नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह मोर्चा संभाले हुए हैं. 

राजेंद्रनगर के अलावा पटना के नए बसे एक सौ से अधिक मोहल्लों में जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है. यहां से पानी निकालना सरकार की सबसे बड़ी चुनौती बन गई है. नए बसे मोहल्लों में ड्रेनेज की कोई व्यवस्था नहीं है. जलजमाव वाले क्षेत्रों में महामारी रोकने की भी कोशिश की जा रही है. 100 से ज्यादा टीमें छिड़काव करने में लगी है. वहीं, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीम बिना थके लगातार लोगों की मदद कर रही है.

राजेन्द्र नगर के एनजीओ कैंप में इलाज के लिए प्रतिदिन लगभग 1500 मरीज पहुंच रहे हैं. दुर्गंध से स्थानीय लोगों का जीना मुहाल हो चुका है. एनजीओ की तरफ से राजेन्द्र नगर में मेडिकल कैंप लगाए गए हैं, जहां लोगों को दवाईयां दी जा रही हैं.