BiharEVimarsh: विजय चौधरी का बड़ा ऐलान, दिवाली से पहले सवा लाख शिक्षकों की होगी भर्ती

Bihar News: विजय चौधरी ने कहा कि दिवाली के पहले ही शिक्षकों का नियोजन होगा.  

BiharEVimarsh: विजय चौधरी का बड़ा ऐलान, दिवाली से पहले सवा लाख शिक्षकों की होगी भर्ती
मंत्री विजय चौधरी बोले दिवाली से पहले होगी सवा लाख शिक्षकों की बहाली (फाइल फोटो)

Patna: ज़ी बिहार-झारखंड के बिहार ई विमर्श (#BiharEVimarsh) में राज्य के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने अलग-अलग मसलों पर अपनी राय रखी और सवालों के जवाब दिए. बिहार में सवा लाख शिक्षक नियोजन पर विजय चौधरी ने कहा कि दिवाली के पहले ही शिक्षकों का नियोजन होगा और विभाग ने इसके लिए अपनी तरफ से प्रक्रिया शुरू कर दी है.
 
अपनी बात रखते हुए विजय कुमार चौधरी ने कहा कि अभी जो शिक्षा की स्थिति है उससे वों पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं. 0मंत्री ने कहा कि 15 साल पहले जहां हम खड़े थे उससे बहुत आगे बढ़ गए हैं. हम अपनी सरकार की तुलना पिछली सरकार से नहीं कर सकते. 
 
विजय कुमार चौधरी के मुताबिक, हमें और भी आगे जाना है. हम उस पंद्रह साल से तुलना नहीं कर सकते. नई यूनिवर्सिटी की स्थापना पर विजय कुमार चौधरी ने जवाब दिया और कहा कि पिछले 15 सालों में परंपरागत शिक्षा की प्रणाली में सुधार किया गया है.
 
उन्होंने कहा कि नए विद्यालयों की स्थापना हो.आधारभूत संरचना की बात हो, सब में सुधार किया है. सभी में प्रगति उल्लेखनीय रही है. विजय चौधरी ने कहा कि आर्यभट्ट ज्ञानविवि अनूठा विश्वविद्यालय है और इसे सेंटर ऑफ एक्सलेंस के रूप में विकसित करना है. साइकिल योजना पर बोलते हुए विजय कुमार चौधरी ने कहा कि हमारी साइकिल योजना उल्लेळखनीय है.
 
चौधरी ने आगे कहा कि पूरी दुनिया में साइकिल योजना की चर्चा हुई है. उन्होंने कहा कि 2012 में लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के एक कार्यक्रम में बतौर जलसंसाधन मंत्री  हिस्सा लेने के लिए गया था, वहां हमसे पहला सवाल साइकिल योजना से ही पूछा गया था.
 
मंत्री के अनुसार, बिहार में लड़कियां बाजार जाने में हिचकती थीं लेकिन आज हमारे विद्यालय की यूनिफॉर्म पहन साइकिल चलाकर लड़कियां स्कूल जाती है और अब यह बदलते बिहार की पहचान हो गई है. शिक्षा के लिए बिहार से पलायन पर जवाब देते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि विभाग इस दिशा में ईमानदारी से काम कर रहा है सकल नामांकन उत्पाद को बढ़ा रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- BPSC ने बढ़ाया जनसंपर्क पदाधिकारी पद के लिए फॉर्म भरने की तारीख, जानें क्या है अंतिम तिथि
 
उन्होंने कहा कि पूरा देश गवाह है कि हमने कोई नीति घोषित की है उसे पूरा किया है. नीतीश कुमार जी इसी के लिए जानी जाती है. वो वाहिद राजनेता के रूप में जाने जाते हैं. हम बिहार की जनता को भरोसा देना चाहते हैं कि उनके भरोसे पर खरा उतरेंगे. स्कूलों को बंद करने का फैसला भारी मन से लिया जाता है. बच्चों की शिक्षा और जान में किसे प्राथमिकता दी जाए. जान बच जाए पढ़ाई आगे जारी रखेंगे.
 
मंत्री ने कहा कि हम विद्यावाहिनी ऐप से बच्चों को पढ़ा रहे हैं. हम ये भी मानते है टेक्नॉलिजी के माध्यम से बिहार जैसे गरीब प्रदेश में जहां इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स नहीं है वहां पढ़ाई की व्यवस्था की है. ई लॉट्स लॉन्च किया है. शिक्षा मंत्री के मुताबिक, वह यूनिवर्सटिटी की पढ़ाई से संतुष्ट नहीं हैं. विश्वविद्यालयों के काम करने का तरीका अलग होता है उसमें सीधे सरकार का हस्तक्षेप नहीं होता है.