एक विवाह ऐसा भी! प्रेमी को पाने के लिए मंडप तक पहुंची प्रेमिका, अपने साथ-साथ देवर की भी करा दी शादी

Bihar Samachar: प्रेमिका ने विवाह मंडप पर पहुंचकर अपने प्यार का साबुत प्रस्तुत किया और प्रेमी को शादी ना करने पर मजबूर कर अपना प्यार वापस लेने में कामयाब हुई. 

एक विवाह ऐसा भी! प्रेमी को पाने के लिए मंडप तक पहुंची प्रेमिका, अपने साथ-साथ देवर की भी करा दी शादी
प्रेमिका के साहस और इस अनोखी शादी की चर्चा जोरों पर है.

Bikram: सिनेमा के परदे पर प्रेमी-प्रेमिका को शादी के मंडप में विवाह रुकवाने और अपने हक की आवाज उठाते बहुत बार देखा होगा. लेकिन वही कहानी रियल लाइफ में किसी सुदूर गांव में आपको देखने को मिले तब आप क्या कहेंगे? दरअसल, सिगोड़ी थानान्तर्गत मुरारचक गांव में जब एक प्रेमिका को पता चला कि उसके प्रेमी की शादी किसी और लड़की से हो रही है तो प्रेमिका ने विवाह मंडप पर पहुंचकर अपने प्यार का साबुत प्रस्तुत किया और प्रेमी को शादी ना करने पर मजबूर कर अपना प्यार वापस लेने में कामयाब हुई. 

जानकारी के अनुसार, मंगलवार की रात मुरारचक गांव में आई बारात के दौरान आधी रात को सिगोड़ी थाना की पुलिस के साथ रूबी नामक युवती ने दूल्हे को अपना प्रेमी बता शादी रुकवा दी जिसके बाद दूल्हे को हिरासत में लेकर पुलिस थाना लौट गई. वहीं, जिस मंडप में प्रेमी की शादी हो रही थी उस दुल्हन से प्रेमी के छोटे भाई की शादी संपन्न हुई. प्रेमिका के साहस और इस अनोखी शादी की चर्चा जोरों पर है.

दरअसल, पालीगंज थाना के सियारामपुर गांव निवासी संजय यादव के पुत्र अनिल कुमार की शादी सिगोड़ी थाना के मुरारचक गांव के भीम यादव उर्फ पंकज की पुत्री से तय हुई थी. सभी कार्यक्रम पहले से निर्धारित तिथि के अनुसार चल रहे थे. जब बारात मुरारचक गांव में पहुचीं तब ग्रामीणों ने बारातियों की अच्छी तरह से खातीरदारी की. बारात दरवाजा लगने के बाद जनमासे बारातियों को नाश्ता भोजन कराया जा रहा था कि तभी दूल्हे की प्रेमिका रूबी को प्रेमी की बारात जाने की जानकारी मिली और वह सिगोड़ी थाना पहुंच गई. 

df

यहां रूबी ने पुलिस को अपनी प्रेम कहानी बताते हुए शादी को तत्काल रुकवाने का आग्रह किया. रूबी के दावे, साक्ष्य और उसके साथ शादी की अनेक तस्वीरें प्रस्तुत करने के बाद विवश होकर पुलिस ने उसका साथ दिया. सिगोड़ी थानाध्यक्ष ने गांव के मुखिया को जानकारी देते हुए कहा कि 'दूल्हे ने पहले से ही 24 वर्षीया लड़की रूबी से शादी की हुई है और वह लड़की हमारे पास है. आप जाकर शादी रूकवा दें हम लोग आ रहे हैं.'

इसके बाद मुखिया ने लड़की के पिता को सारी बातों से अवगत करा दिया. लड़की के पिता व गांव वाले हक्के-बक्के हो गए और गांव में यह खबर आग की तरह फैल गई. इसी बीच रूबी सिगोड़ी थाना की पुलिस के साथ पहुंच गई. रूबी ने ग्रामीणों के समक्ष कन्या पक्ष को तस्वीरें दिखाते हुए कहा कि 'एक वर्ष पूर्व हम दोनों ने शादी कर ली है.' जिसके बाद पुलिस दूल्हे को लेकर थाना वापस चली गई.

उधर, लड़के के थाना जाने के बाद ग्रामीणों ने बारात पार्टी को बंधक बना लिया और तब गांव के मुखिया ने प्रतिष्ठा का हवाला देते हुए दोनों पक्षों को बीच का रास्ता निकालने की बात कही. फिर तय हुआ कि लड़के (दूल्हे) के छोटे भाई से लड़की की शादी करा दी जाए. दोनों पक्षों की मौजूदगी में शादी संपन्न करा दी गई और तब जाकर मामला शांत हुआ. वहीं, पुलिस ने बड़े भाई अनिल को पत्नी रूबी के साथ रहने व उसकी देख रेख करने संबंधी बंधपत्र लिखाकर आशीर्वाद देते हुए घर भेज दिया.

(इनपुट- शशांक शेखर)