बिहार: मद्य निषेध विभाग की बड़ी कार्रवाई, मीडिया के स्टीकर लगे वाहन से शराब बरामद

Bihar News: सूबे के अलग-अलग जिलों में विभाग की कार्रवाई से शराब तस्करों के बीच खलबली मची हुई है.  

बिहार: मद्य निषेध विभाग की बड़ी कार्रवाई, मीडिया के स्टीकर लगे वाहन से शराब बरामद
हजारों लीटर शराब बरामद (फाइल फोटो)

Patna: बिहार में शराबबंदी के बाद भी शराब सप्लाई कर रहे माफियाओं पर लगाम लगाने के लिए मद्य निषेध विभाग एक्टिव मोड में है. यही वजह है कि मद्य निषेध विभाग की सक्रियता से शराब तस्करों के मंसूबों पर लगातार पानी फिर रहा है. सूबे के अलग-अलग जिलों में विभाग की कार्रवाई से शराब तस्करों के बीच खलबली मची हुई है.
 
ताजा मामला दीघा इलाके की है जहां शराब की होम डिलीवरी करने वाले गिरोह पर पुलिस ने शिकंजा कसा है. दरअसल, मद्य निषेध विभाग और दीघा थाना ने संयुक्त तौर पर कार्रवाई करते हुए जेपी सेतु पर नाकाबंदी की जहां चेकिंग के दौरान दो क्रेटा गाड़ी से लगभग 330 लीटर शराब को जब्त किया गया. मौके से पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार भी किया है जिनसे पूछताछ जारी है.
 
गाड़ी पर प्रेस का स्टीकर लगा करते थे शराब की होम डिलीवरी
शराब तस्कर इतने शातिर हैं कि किसी को शक ना हो इसके लिए वो ऑटोमाबाइल इंडस्ट्री में इंटलेक्ट गाड़ियों के तौर पर पहचान रखने वाली प्रीमियम गाड़ियों का इस्तेमाल शराब की तस्करी करने के लिए करते थे. बाकायदा गाड़ियों पर प्रेस का स्टीकर लगाकर शराब की तस्करी करते थे ताकि पुलिस को झांसा दे सकें. गाड़ियों के डैशबोर्ड पर अंग्रेजी और हिंदी अखबरों के प्रति भी रखते थे ताकि पुलिस इन्हें पत्रकार समझे.
 
पकड़े गए युवक खुद को बता रहे बेकसूर
पकड़े गए पांचों शराब तस्करों की उम्र 25 से 30 साल के बीच है. शराब तस्कर खुद को बेकसूर बता रहे थे. प्रेस लिखी गाड़ी से जिस युवक को पकड़ा गया है उसका कहना है कि गाड़ी उसके भाई की है जो कुछ समय पहले पटना के किसी लोकल न्यूज चैनल में काम किया करता था. 

ये भी पढ़ें- झारखंड: हज यात्रा के लिए तैयारी पूरी, सरकारी आदेश का इंतजार

युवक ने खुद को निर्दोष बताते हुए कहा कि उसने हाल में ही सरकारी नौकरी में सफलता पाई है, उसका करियर बर्बाद हो जाएगा. पुलिस उसे बेवजह फंसा रही है. पकड़े गए युवकों में ज्यादातर दानापुर के ही रहने वाले हैं.

हाजीपुर से लाई जा रही थी शराब की खेप
दरअसल, मद्य निषेद विभाग की टीम को सूचना मिली थी कि दो क्रेटा गाडियों पर शराब की बड़ खेप हाजीपुर से लाई जा रही थी जिसे पटना के अलग-अलग जगहों पर ऑनलाइन डिलीवरी देनी थी. इसके बाद टीम ने दीघा थाना के साथ संयुक्त तौर पर कार्रवाई करते हुए ये सफलता पाई. टीम युवकों से पूछताछ कर रही है कि इस सिंडिकेट में और कौन कौन से लोग शामिल हैं और हाजीपुर में इस नेक्सस का मास्टर माइंड कौन है. मद्य निषेध विभाग के पुलिस उपाधीक्षक के शिंधु शेखर सिंह के नेतृत्व में इंसपेक्टर नवीन कुमार सिंह और उदय शंकर ने इस पूरे ऑपरेशन को अंजाम दिया.

मद्य निषेध विभाग लगातार कर रहा कार्रवाई
दरअसल, कुछ दिन पहले ही सूबे के मुखिया नीतीश कुमार ने उच्च स्तरीय मीटिंग में स्पष्ट तौर पर कहा था कि शराब के मामलों में कोई भी कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इसके बाद डिपार्टमेंट अलग-अलग जिलों में लगातार शराब माफियाओं के मंसूबों पर पानी फेर रहा है. दो दिन पहले भी टीम ने बुद्धा कॉलोनी थाना के चकारम से बड़ी मात्रा में शराब की खेप को जब्त किया था. एक होटल में चल रही पार्टी पर भी छापा मारा गया ता जहां जाम छलक रहे थे.
 
जानें क्या है शिकायत करने की टोल फ्री नंबर
मद्य निषेद विभाग के वरीय अधिकारियों का साफ तौर पर कहना है कि शराब के नेक्सस के खिलाफ उनकी टीम हमेशा तत्पर है और उसी का नतीजा है कि लगातार शराब के धंधे पर छापा पड़ रहा है. अधिकारी ने कहा कि शराब तस्करों पर लगातार शिकंजा कसा जा रहा है जिससे लोगों में भी अच्छा मैसेज जा रहा है. मद्य निषेध विभाग ने भी लोगों से अपील की है कि आम लोग भी सहयोग करें और शराब के इस नेक्सस को तोड़ने के लिए विभाग के टॉल फ्री नंबर 15545 या 1800-345-6268 पर भी अपनी शिकायत या जानकारी साझा कर सकते हैं.