संविधान को साक्षी मानकर वर-वधु ने लिए सात फेरे, कहा- हर सुख-दुख में रहेंगे साथ

Masaurhi Samachar: वर-वधु ने संविधान को साक्षी मानकर एक दूसरे का साथ जीवन भर निभाने की शपथ ली और इसके गवाह कई गणमान्य और गांव की जनता रही.

संविधान को साक्षी मानकर वर-वधु ने लिए सात फेरे, कहा- हर सुख-दुख में रहेंगे साथ
संविधान को साक्षी मानकर वर-वधु ने लिए सात फेरे.

Masaurhi: आम तौर पर शादियां वैदिक मंत्रोउच्चारण व रीति रिवाज के साथ होती है लेकिन पटना जिले में एक अनोखी शादी चर्चा का विषय बनी. यहां वर-वधु संविधान (Constitution) को साक्षी मानकर परिणय सूत्र से बंधे. 

इस विवाह समारोह में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी और फुलवारी विधायक गोपाल रविदास भी मौजूद रहे. बता दें कि विवाह समारोह मसौढ़ी के केवड़ा धनकी गांव में आयोजित था. जिसमे पालीगंज निवासी जगजीवन राम के पुत्र रंजीत कुमार और केवड़ा निवासी सुरेंद्र दास की पुत्री कुमकुम का विवाह होना था. 

ये भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर प्यार के बाद नाबालिग घर से हुए फरार, परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने उठाया ये कदम

विवाह एक सादे समारोह के जरिए हुआ, जिसमें ना तो बैंड बाजे बजा और ना ही वैदिक मंत्रोउच्चारण के साथ कोई विधिविधान हुआ. बस वर-वधु ने संविधान को साक्षी मानकर एक दूसरे का साथ जीवन भर निभाने की शपथ ली और इसके गवाह कई गणमान्य और गांव की जनता रही. बाद में इस शादी की चर्चा पूरे मसौढ़ी में होने लगी. सभी ने इस अनोखी शादी को सराहा.