close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार विधान परिषद चुनाव का समीकरण, 11वीं सीट के लिए होगा टक्कर

बिहार विधान परिषद के सदस्यों के चुनाव की तारीख तय कर दी गई है. बिहार विधान परिषद के 11 सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने वाला है. जिसमें से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का कार्यकाल 6 मई को समाप्त होने वाला है. 

बिहार विधान परिषद चुनाव का समीकरण, 11वीं सीट के लिए होगा टक्कर
बिहार के 11 विधान परिषद सीटों के लिए 26 अप्रैल को मतदान होगा.

पटनाः बिहार विधान परिषद के सदस्यों के चुनाव की तारीख तय कर दी गई है. बिहार विधान परिषद के 11 सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने वाला है. जिसमें से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का कार्यकाल 6 मई को समाप्त होने वाला है. परिषद के 11 सीटों में से जेडीयू के 6 सदस्य, बीजेपी के 4 सदस्य और आरजेडी के 1 सदस्य का कार्यकाल समाप्त हो रहा है. हालांकि इनमें कुछ सदस्यों का जीतना तय है लेकिन 11 वें सीट पर पेंच फंसते दिख रहा है. विधान परिषद के सदस्यों के चुनाव को लेकर बिहार की सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी-अपनी रणनीति में जुट गई है या फिर अपनी-अपनी रणनीति बनाने में लगी है. 

बिहार विधान परिषद सदस्य चुनने के लिए 22 मतों की जरूरत होती है. संख्या बल के लिहाज से 10 लोगों की सदस्यता जीतना तय है कि किस पार्टी की कितने सदस्य परिषद में पहुंचेंगे. तय सदस्यों की बात करें तो इसमें आरजेडी के 4, जेडीयू के 3, बीजेपी के 2 और काग्रेंस के 1 सदस्यों का जीतना तय है. लेकिन राजनीतिक पार्टियां 11वीं सीट के लिए अपनी रणनीति बनाने में लगे हैं.

लालू के करीबी भोला यादव के खिलाफ कोर्ट का नोटिस, 19 अप्रैल को हाजिर होने का आदेश

समीकरण की बात करें तो संख्या बल के हिसाब से 11वीं सीट बीजेपी के पाले में जानी है. क्यों की सहयोगी दलों और निर्दलीय विधायकों के सहयोग से बीजेपी जीत के करीब दिख रही है. बीजेपी के 2 सीट जीतने के बाद उसके पास 8 वोट बचेंगे. इसके अलावा जेडीयू के 4, एलजेपी के 2, और आरएलएसपी के 2 सदस्यों की मदद से संख्या 16 पहुंच जाएगी. और इसमें अगर 3 निर्दलीय विधायकों के वोट जोड़ दिए जाएं तो यह संख्या करीब 22 पहुंच जाएगी. अगर चुनाव के पहले कोई बड़ा उलट-फेर नहीं हुआ तो यही समीकरण बना रह जाएगा.

बिहारः सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, आरजेडी जारी करेगी आरोप पत्र

हालांकि संख्या बल के हिसाब से इस चुनाव में आरजेडी और कांग्रेस को फायदा होगा. वहीं, बीजेपी और जेडीयू को नुकसान होगा. चुनाव की रणनीति बनाने के लिए आरजेडी 5 अप्रैल को पार्टी की बैठक बुलायी है. इस बैठक में पार्टी के उम्मीदवारों पर चर्चा भी की जाएगी. हालांकि यह भी देखना होगा कि बिहार विधान परिषद में मतदान होगा या राज्यसभा चुनाव की तरह पार्टियों की सहमति बन जाती है. इसके लिए अभी इंतजार करना होगा.