close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गंगा की लहरों पर उठाएं पटना से वाराणसी तक के सफर का लुत्फ

बिहार राज्य पर्यटन निगम की प्रबंध निदेशक इनायत खान ने कहा, 'सारी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं. रिवर क्रूज के इंजन की मरम्मत कराने के बाद इसे शुरू कर दिया जाएगा'

गंगा की लहरों पर उठाएं पटना से वाराणसी तक के सफर का लुत्फ

पटना: अब वो दिन दूर नहीं जब गंगा नदी की लहरों पर सफर का लुत्फ उठाते हुए पटना से वाराणसी तक का सफर तय किया जा सकेगा. राज्य पर्यटन निगम इस दिशा में तेजी से काम कर रही है. दरअसल गंगा नदी के रास्ते पटना से वाराणसी के बीच रिवर क्रूज सेवा शुरू होने जा रही है. बिहार राज्य पर्यटन निगम इसकी शुरुआत एमवी गंगा विहार के माध्यम से करेगा. पटना के गांधी घाट से एमवी गंगा विहार का सफर शुरू होगा और आगे बढ़ते हुए अपने सफर में यह वाराणसी के पर्यटन और ऐतिहासिक स्थलों की सैर कराएगा. इतना ही नहीं सफर के दौरान पर्यटक वाराणसी के मनोरम गंगा घाटों और वहां बने मंदिरों के भी दर्शन कर सकेंगे. फिलहाल गांधी घाट पर खराब पड़े 'एमवी गंगा विहार' की तकनीकी परेशानियों को दूर किया जा रहा है. 

उल्लेखनीय है कि यह दूसरा रिवर क्रूज होगा जो कि पटना से वाराणसी तक का सफर तय करेगा. क्रूज 'एमवी गंगा विहार' पर पर्यटक फ्लोटिंग रेंस्टोरेंट के साथ ओपेन डेक, बार, रेस्टोरेंट, डाइनिंग रूम, स्पा, व एसी केबिन की सुविधा का भी आनंद उठा सकेंगे. इस बारे में जानकारी देते हुए बिहार राज्य पर्यटन निगम की प्रबंध निदेशक इनायत खान ने कहा, 'सारी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं. रिवर क्रूज के इंजन की मरम्मत कराने के बाद इसे शुरू कर दिया जाएगा' 

पटना से वाराणसी के दौरान इन जगहों से गुजरेगी क्रूज
गांधी घाट से खुलकर दानापुर, मनेर, डोरीगंज, रिविलगंज, सुंदरपुर बराज, रूद्रपुर, बलिया, बक्सर, चौसा, जमनिया, गहमर, गाजीपुर, रजवारी होते हुए वाराणसी तक जाएगा. इनमें से ऐतिहासिक स्थलों की सैर कराते हुए चार दिनों में एमवी गंगा विहार बनारस पहुंचेगा. हालांकि पटना से वाराणसी तक का किराया कितना होगा, इस बारे में अभी तक फैसला नहीं हो सका है.

100 लोग कर सकते हैं सफर
रिवर क्रूज पर 85 से 100 लोग तक सफर कर सकते हैं. एमवी गंगा विहार अभी तक पटना में ही पांच किलोमीटर तक की सैर कराता था, हालांकि पर्यटकों की डिमांड पर इसे कभी-कभी दीघा घाट तक भी चलाया जाता था.