ममता बनर्जी, शरद पवार से मुलाकात पर लालू ने जताई खुशी, कहा-पुराने दोस्तों को देखना संतोषजनक

बिहार की राजनीती में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बेहद कम समय में अपनी अलग पहंचान बन ली है.  2020 के विधानसभा चुनावों में भी उन्होंने खुद को साबित किया था. 

ममता बनर्जी, शरद पवार से मुलाकात पर लालू ने जताई खुशी, कहा-पुराने दोस्तों को देखना संतोषजनक
ममता बनर्जी, शरद पवार से मुलाकात पर लालू ने जताई खुशी (फाइल फोटो)

Patna: बिहार की राजनीती में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बेहद कम समय में अपनी अलग पहंचान बन ली है.  2020 के विधानसभा चुनावों में भी उन्होंने खुद को साबित किया था. उनकी नेतृत्व करने की क्षमता से अब उनके पिता और RJD प्रमुख लालू प्रसाद यादव  (Lalu Prasad Yadav) भी काफी ज्यादा प्रभावित नजर आ रहे हैं. 

उन्होंने दावा किया है कि उनके बेटे तेजस्वी यादव उनकी उम्र में 30 साल की उम्र में जितने सफल थे, उससे कहीं ज्यादा सफल हैं. तेजस्वी बिहार में एक लोकप्रिय नेता हैं और उन्होंने 2020 के विधानसभा चुनावों के दौरान इसे साबित कर दिया है. उन्होंने बिहार में BJP और JDU को अकेले ही चुनौती दी थी. जब विधानसभा चुनाव हुए थे, तब मैं जेल में था. बिहार के लोगों ने उन्हें वोट दिया था और राजद 75 सीटों के साथ राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बन गई थी.ये उनके लिए एक बड़ी उपलब्धि है. लालू प्रसाद ने गुरुवार को नई दिल्ली में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें संसद भवन में कोविड -19 वैक्सीन की पहली खुराक दी गई थी.

लालू प्रसाद ने कहा कि नेता नहीं बनाए जा सकते हैं. अगर उनमें प्रतिभा है, तो वे तेजस्वी की तरह अपने आप नेता बन जाएंगे. उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव ने विधायकों की पिटाई के लिए कथित रूप से जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है, यह न्यायसंगत है. देश के लोगों ने देखा है कि कैसे पुलिस अधिकारियों ने उनके साथ बर्बरता की.

जाति आधारित जनगणना पर प्रतिक्रिया देते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि उन्होंने जीवन भर उस मोर्चे पर संघर्ष किया है. यह समय की आवश्यकता है और राज्यों और केंद्र की संबंधित सरकारों को अपनी-अपनी क्षमताओं में पहल करनी चाहिए.

उन्होंने उनसे मिलने के लिए पार्टी के अन्य नेताओं के प्रति भी आभार व्यक्त किया. मुझे बेहद खुशी है कि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह, सपा नेता राम गोपाल यादव जैसे नेता मेरे पास आए और मुझसे मिले। हमारे पुराने दोस्तों को देखना मेरे लिए बेहद अच्छा और संतोषजनक अनुभव है.

 

'