पटना में मानदेय मांग रहे पंचायत सचिवों पर पुलिस ने बरसाई लाठी, इस मामले में शुरू हुई राजनीति

Bihar News: पटना में प्रदर्शन करने वाले सचिवों का कहना है कि वार्ड सचिव की सेवा स्थाई एवं सामान्य मानदेय की मांग को लेकर पंचायत वार्ड सचिव संघ के सदस्यों ने गांधी मैदान से विधानसभा मार्च निकाला लेकिन पुलिस और उनके बीच झड़प हो गई.

पटना में मानदेय मांग रहे पंचायत सचिवों पर पुलिस ने बरसाई लाठी, इस मामले में शुरू हुई राजनीति
पंचायत सचिव पर चली लाठी (फाइल फोटो)

Patna: एक तरफ जहां बिहार विधानसभा में मानसून सत्र (Monsoon session in Vidhan Sabha) की कार्यवाही चल रही है, तो वहीं दूसरी तरफ गांधी मैदान (Gandhi Maidan) के पास जेपी गोलंबर पर पंचायत वार्ड सचिव संघ का जोरदार प्रदर्शन चल रहा है. प्रदर्शन करने वालों का कहना है कि पिछले 4 सालों से पंचायत वार्ड सचिव का मानदेय सरकार ने नहीं दिया है, जिस वजह से उन्हें सड़क पर उतरने को मजबूर होना पड़ा है.

प्रदर्शन करने वालों का कहना है कि वार्ड सचिव की सेवा स्थाई एवं सामान्य मानदेय की मांग को लेकर पंचायत वार्ड सचिव संघ के सदस्यों ने गांधी मैदान से विधानसभा मार्च निकाला लेकिन पुलिस और उनके बीच झड़प हो गई. इसके बाद ही पुलिस ने लाठी के प्रयोग के साथ ही वाटर कैनन का इस्तेमाल किया.

इसपर अब राजनीति भी शुरू हो गई. आरजेडी के विधायक ललित यादव ने कहा, 'यह सरकार चोर दरवाजे से आई है, यह हमारे नेता तेजस्वी यादव जी ही कहते हैं. इस सरकार से कोई उम्मीद नहीं किया जा सकता है, जितने भी अनैतिक कार्य होंगे यह सरकार करेगी.'

बीजेपी विधायक उमाशंकर सिंह ने कहा कि सभी को कानून के दायरे में रहना चाहिए सबको अपने अधिकार क्षेत्र में रहना चाहिए. अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर कोई काम करेगा तो कानून अपना काम करते रहेगा बिहार में कानून का राज है और कानून जो है उसे पालन करना होगा. कुछ गैरकानूनी कार्य उन्होंने किया होगा तो पुलिस को उन को कंट्रोल करने के लिए ऐसे कदम उठाने पड़े होंगे.

कांग्रेस की विधायक प्रतिमा कुमारी ने कहा कि यह जो सरकार है, वह गूंगे और बहारों की सरकार है. लोगों का अपना हक नहीं मिल रहा है बल्कि पुलिस बल का प्रयोग करके लोगों को आवाज को दबाया जा रहे हैं. पुलिस के बल पर सरकार आई है और उसी पुलिस के द्वारा लोगों के आवाजों को दबाया जा रहा है. जदयू की विधायक शालनी मिश्रा ने  कहा कि इसकी जानकारी मुझे नहीं है कुछ ऐसा हुआ होगा जो बर्दाश्त के बाहर हुआ होगा तो ऐसे कदम उठाने पड़े होंगे.