अलर्ट हो जाएं बिहार-झारखंड के लोग, इन 11 जिलों में दिखेगा चक्रवाती तूफान 'गुलाब' का असर

बिहार (Bihar) के मौसम में अगले दो से तीन दिनों में बदलाव देखने को मिलेगा. बंगाल की खाड़ी क्षेत्र की ओर कम दबाव का क्षेत्र विकसित हो रहा है, जिसके बाद राज्य की राजधानी पटना समेत 11 जिलों में ‘गुलाब’ का असर शनिवार को गहरे दबाव के रुप में परिवर्तित होकर चक्रवाती हवा के रूप में सक्रिय हो गया है.

अलर्ट हो जाएं बिहार-झारखंड के लोग, इन 11 जिलों में दिखेगा चक्रवाती तूफान 'गुलाब' का असर
अलर्ट हो जाएं बिहार-झारखंड के लोग (फाइल फोटो)

Patna: बिहार (Bihar) के मौसम में अगले दो से तीन दिनों में बदलाव देखने को मिलेगा. बंगाल की खाड़ी क्षेत्र की ओर कम दबाव का क्षेत्र विकसित हो रहा है, जिसके बाद राज्य की राजधानी पटना समेत 11 जिलों में ‘गुलाब’ का असर शनिवार को गहरे दबाव के रूप में परिवर्तित होकर चक्रवाती हवा के रुप में सक्रिय हो गया है.

बता दें कि गुलाब तूफान ओडिशा होते हुए आंध्र प्रदेश के कलिंगापट्टम की तरफ बढ़ रहा है. अगले  48 घंटे के अंदर तूफान आंध्र प्रदेश के तटवर्ती क्षेत्रों से टकरा सकता है. इस दौरान 75 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी. 

बिहार-झारखंड में असर कम 
जानकारी के अनुसार, बंगाल की खाड़ी के पश्चिम भाग स्थित झारखंड और बिहार में इसका असर कम दिखाई देगा. इस दौरान काले बादल छाए रहेंगे और कुछ जगहो पर हल्की बारिश होने का अनुमान है. 

पटना सहित 11 जिलों में तूफान का असर

बंगाल की खाड़ी में गुलाब तूफान की सक्रियता के वजह से बिहार के उत्तर-पश्चिम और दक्षिण मध्य स्थित पूर्वी-पश्चिम चंपारण, सीवान, गोपालगंज, सारण, पटना, गया, बक्सर सहित 11 जिलों में कुछ जगहों पर हल्की बारिश होने का अनुमान है. इस दौरान बिहार के अधिकांश हिस्से में आसमान पर काले बादल छाए रहेंगे. इस दौरान 5 से 16 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पूर्व और दक्षिण-पूर्व की तरफ हवा तेज चलेगी. जिससे बिहार में गर्मी से राहत रहेगी.

ये भी पढ़ें: Bihar Weather News: बेहतरीन रहा मानसून का मिजाज, बारिश ने किया औसत के रिकार्ड को पार

बता दें कि रामरूप महाजन (ग्वालियर) चक्रवाती तूफान और लगातार कम दबाव के क्षेत्र बनने से पहाड़ों में बर्फबारी भी नवंबर के पहले सप्ताह में होने का अनुमान लगाया जा रहा है, जबकि सर्दी की शुरुआत नवंबर दूसरे सप्ताह में हो सकती है.  मौसम विभाग के मुताबिक प्रशांत महासागर में अलनीनो अभी उदासीन है, यदि मानसून की विदाई के बाद यह निगेटिव हुआ तो कड़ाके की ठंड पड़ेगी.