बिहार में सियासी पारा बढ़ने पर मंत्री सम्राट चौधरी ने दी सफाई, कहा...

Bihar Politics:  एनडीए में सम्राट चौधरी के बयान के बाद एक बार फिर उठल-पुथल मच गई है. हालांकि, सम्राट चौधरी ने बयान पर सफाई देते हुए यू टर्न ले लिया है.  

बिहार में सियासी पारा बढ़ने पर मंत्री सम्राट चौधरी ने दी सफाई, कहा...
बिहार में सियासी पारा बढ़ने पर मंत्री सम्राट चौधरी ने दी सफाई. (फाइल फोटो)

Patna: बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी (Samrat Chaudhary) के सुर अचानक बदल गए हैं. मंत्री ने रविवार को दिए अपने बयान पर सफाई दी है. सम्राट चौधरी ने कहा है कि सरकार में शामिल चारों पार्टियों के साथ विचार के बाद ही फैसले लेने पड़ते हैं. उन्होंने कहा कि बिहार में चार पार्टियों की सरकार है, सबके विचार को समझकर उसके बाद निर्णय लेना पड़ता है इसलिए मेहनत करनी पड़ती है. 

'बहुत कुछ करना पड़ता है बर्दाश्त'
दरअसल, रविवार को औरंगाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान सम्राट चौधरी ने कहा था कि बिहार की सरकार के साथ काम करना ज्यादा चैलेंजिंग और कुछ ज्यादा ही मुश्किल हो गया है, जबकि पड़ोसी राज्यों में जब हम स्वतंत्र सरकार चलाते हैं, हमारा नेतृत्व होता था और हम अपनी चीजों को स्थापित करते थे. नेतृत्व अपना नहीं होता तो किसी भी काम के लिए कई बातों को बर्दाश्त करना पड़ता है.' सम्राट चौधरी ने कहा, 'जब नेतृत्व अपना होता है तो किसी काम का फैसला स्वतंत्र तरीके से लिया जा सकता है. फिलहाल बिहार सरकार में चार-चार विचारधाराएं हैं जो किसी भी काम को करने में बाधक बन जाती हैं.'

नीतीश स्पष्ट करें स्थिति-RJD
वहीं, सम्राट चौधरी के इस बयान के बाद सियासी पारा भी बढ़ गया था. आरजेडी (RJD) का कहना है कि नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को स्पष्ट करना चाहिए कि क्या बीजेपी (BJP) घुटन महसूस कर रही है, जिसके कारण वो इस तरह की बयानबाजी कर रही है. आरजेडी प्रवक्ता शक्ति यादव ने कहा कि हर रोज बीजेपी और पार्टनर नीतीश की इमेज को डेमैज करते रहते हैं और नीतीश चुपचाप सहन करते रहते हैं.

'विरोधाभास से भरी पड़ी सरकार'
कांग्रेस ने सीधे तौर पर त्यागपत्र देने की बात की. कांग्रेस ने कहा कि क्या मजबूरी है, पहले भी कई मंत्रियों ने बयान दिए हैं, बयान देने से क्या होता है आप कंर्फटेबल फील नहीं कर रहे तो त्यागपत्र दें. सरकार में रहकर इस तरह की बात करके किसकों मूर्ख बनाने का प्रयास कर रहे हैं. कांग्रेस ने बिहार सरकार को विरोधाभास से भरा बताया.

ये भी पढ़ें- बिहार सरकार के मंत्री सम्राट चौधरी का छलका दर्द! कहा- गठबंधन में काम करना आसान नहीं

जेडीयू का विपक्ष पर हमला
उधर, जेडीयू (JDU) ने बीजेपी का साथ देते हुए कहा कि विपक्ष के लोगों को पेट में दर्द होगा ही. लेकिन जनता सब जानती है कि मौका देंगे तो ये लोग क्या करेंगे. विपक्ष के लोग पॉलिटिकल टूरिस्ट हैं जो फेसबुक और ट्वीटर के जरिए राजनीति का एजेंडा तय करते हैं.

सम्राट का बयान कॉमन- बीजेपी
बीजेपी ने ऊहपोह की स्थिति को खत्म करते हुए साफ कर दिया कि सम्राट चौधरी के बयान को अन्यथा नहीं लेना चाहिए. उन्होंने कॉमन सी बात कही है कि बिहार में चार दलों की सरकार है, चार विचारधाराएं मिलकर मिनिमम कॉमन प्रोग्राम चला रही हैं. बीजेपी प्रवक्ता अरविंद सिंह ने कहा कि हम जो भी काम करते हैं बिहार के हित में करते हैं.