लातेहार : बढ़ती गर्मी ने खोली सरकारी दावों की पोल, पानी के लिए तरसे लोग

लातेहार में एक तरफ सूर्य का तापमान 43 डिग्री सेल्सियस के पार हो गया है. जिले के नदी-नाले भी सूखने के कगार पर हैं. तपती गर्मी में दर्जन भर से अधिक हैंडपंप खराब हो चुके हैं. ऐसे में ग्रामीण अपनी प्यास बुझाने के लिए जद्दोजहद करने को मजबूर हैं. नदी के सहारे लोगों को अपनी प्यास बुझानी पड़ रही है. 

लातेहार : बढ़ती गर्मी ने खोली सरकारी दावों की पोल, पानी के लिए तरसे लोग
लातेहार में जल संकट से जूझ रहे हैं लोग. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लातेहार : लातेहार में एक तरफ सूर्य का तापमान 43 डिग्री सेल्सियस के पार हो गया है. जिले के नदी-नाले भी सूखने के कगार पर हैं. तपती गर्मी में दर्जन भर से अधिक हैंडपंप खराब हो चुके हैं. ऐसे में ग्रामीण अपनी प्यास बुझाने के लिए जद्दोजहद करने को मजबूर हैं. नदी के सहारे लोगों को अपनी प्यास बुझानी पड़ रही है. 

सरकार हर घर शुद्ध पानी पहुंचाने का दावा तो कर रही है, लेकिन लातेहार के चंदवा प्रखंड के अलौदिया पंचायत में लोग पानी के लिए जूझ रहे हैं. अधिकांश सरकारी हैंडपंप खराब हो चुके हैं. ग्रामीणों के द्वारा जिला प्रशासन से शिकायत करने के बावजूद अभी तक एक भी हैंडपंप को दुरुस्त नहीं कराया गया है. इस कारण से आम अवाम को अपनी प्यास बुझाने को लेकर नदी में चुवाड़ी खोदकर गंदे पानी पीने के लिए विवश होना पड़ता है.

हालांकि जिला प्रशासन के द्वारा वर्षों पहले चार हैंडपंप लगाया गया था, लेकिन एक को छोड़कर सभी खराब हो चुके हैं. जिसको लेकर अब तक पेयजल बिभाग द्वारा अब तक कोई ठोस पहल नहीं किया गया है. वहीं, स्थानीय ग्रामीणों की बात माने तो हमलोगों ने खराब हैंडपंप को दुरुस्त करवाने के लिए अधिकारियों के ऑफिस के चक्कर लगाए, लेकिन अभी तक कोई ठोस पहल नहीं किया गया है. 

गौरतलब है यह क्षेत्र अति पिछड़ा और आदिवासी बहुल है. स्थानीय लोगों ने पानी के स्थाई समाधान के लिए कई बार जन प्रतिनिधियों को कहा है, लेकिन चुनाव जाते ही इनकी मांगों को भी नजरअंदाज कर दिया जाता है. इस मसले पर जब हमने पेयजल विभाग से पूछा तो उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी कहना मुनासिब नहीं समझा. एक तरफ सरकार हर घर में शुद्ध पानी देने का दावा करते नहीं थकती है वहीं, दूसरी तरफ अधिकारियों की लापरवाही के कारण आज भी लोगों को चुवाड़ी के पानी पीने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है, जो सरकारी दावे की पोल खोलने को लिए काफी है.