close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार-झारखंड में वज्रपात से जा रही लोगों की जान, बचने के लिए जानें कुछ खास उपाय

मुआवजा की राशि देने के लिए एसडीओ प्रदीप कुमार पीड़ितों के घर पहुंचे उन्होंने कहा कि 8 लोगों की मौत एक बड़ी दुखद घटना है और इससे हम सभी मर्माहत हैं मुख्यमंत्री के निर्देश पर 24 घंटे के अंदर मुआवजा देने आया हूं.'  

बिहार-झारखंड में वज्रपात से जा रही लोगों की जान, बचने के लिए जानें कुछ खास उपाय
झारखंड के गढ़वा में गुरुवार को वज्रपात से 8 लोगों की मौत हुई थी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गढ़वा: झारखंड (Jharkhand) के गढ़वा में वज्रपात से 8 लोगों की मौत हुई थी. जिला प्रशासन की टीम ने 24 घंटे अंदर मृतक के परिजनों को 4-4 लाख का चेक दे दिया है. हादसा गुरुवार को हुआ था जब घर के बाहर खेल रहे लोगों पर बिजली गिरी थी. 

मुआवजा की राशि देने के लिए एसडीओ प्रदीप कुमार पीड़ितों के घर पहुंचे उन्होंने कहा कि 8 लोगों की मौत एक बड़ी दुखद घटना है और इससे हम सभी मर्माहत हैं मुख्यमंत्री के निर्देश पर 24 घंटे के अंदर मुआवजा देने आया हूं.'

 

एसडीओ ने पीड़ित परिजनों का ख्याल रखने और हर तरह की मदद देने का भरोसा भी दिया. बारिश के दिनों में बिहार और झारखंड में आए दिन वज्रपात से लोगों की जान जा रही है, लेकिन कुछ सावधानी बरतें तो ऐसे हादसों को टाला जा सकता है. वज्रपात से बचने के लिए कुछ उपाय हम आपको बता रहे हैं. 

1. बिजली के तार, पेड़ और मोबाइल टॉवर से दूर रहें
2. मोबाइल फोन का इस्तेमाल न करें
3. बिजली की तेज आवाज सुनाई दे तो नीचे बैठ जाएं
4. एक से ज्यादा लोग हैं तो दूरी बनाकर रखें
5. धातु से बने सामान से खुद को दूर रखें
6. बिजली कड़कने के समय पेड़ के नीचे न बैठें
8. बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल ना करें 
9. तालाब के किनारे या पानी भरे खेत में न जाएं
10. लकड़ी के डंडे वाली छतरी का इस्तेमाल करें
11. चमड़ा या प्लास्टिक के जूते का इस्तेमाल करें

जरा सी सावधानी आपको 'आसमानी आफत' से बचा सकती है. इसके अलावा घर में एमसीबी जरूर लगाएं जिससे शॉर्ट सर्किट होने पर बिजली अपने आप बंद हो जाएगी और आप खतरे से बचे रहेंगे. अगर आपके आसपास हर साल वज्रपात की घटना होती है तो आपको अपने घर में विद्युत तड़ित चालक लगावाना चाहिए, इसमें पैसे ज्यादा खर्च होंगे लेकिन आप सुरक्षित रहेंगे. (Edited by: Sameer Bajpai)