झारखंड: 17 साल में भी चालू नहीं हुई रेल लाइन, शिलान्यास कर लोगों ने जतायी नाराजगी

पूर्व पार्षद और समाजसेवी अनूप साव ने सूचना के अधिकार के तहत बीसीसीएल (BCCL) से बंद पड़ी झरिया रेलवे लाइन के संबंध में जानकारी मांगी थी. अनूप साव ने पूछा था की रेल लाइन को कब चालू किया जाएगा? 

झारखंड: 17 साल में भी चालू नहीं हुई रेल लाइन, शिलान्यास कर लोगों ने जतायी नाराजगी
झरिया में रेल लाइन चालू नहीं होने से लोगों में गुस्सा.

धनबाद: झारखंड के धनबाद जिला के झरिया (Jharia) में रेल लाइन के 17 साल में भी चालू नहीं होने से नाराज लोगों ने अनोखे तरीके से अपनी नाराजगी जाहिर की है. झरिया की जनता ने रेलवे स्टेशन पहुंचकर रेल लाइन (Rail Line) का शिलान्यास किया. इस शिलान्यास कार्यक्रम में बीसीसीएल के सीएमडी और रेलवे के डीआरएम को भी निमंत्रण दिया गया था. लोगों ने इस शिलान्यास कार्यक्रम के जरिये जनप्रतिनिधियों, रेलवे और बीसीसीएल के प्रति अपनी नाराजगी जतायी. 

दरअसल, पूर्व पार्षद और समाजसेवी अनूप साव ने सूचना के अधिकार के तहत बीसीसीएल (BCCL) से बंद पड़ी झरिया रेलवे लाइन के संबंध में जानकारी मांगी थी. अनूप साव ने पूछा था की रेल लाइन को कब चालू किया जाएगा? 

आरटीआई (RTI) से मिले जवाब में रेल लाइन को फिर चालू करने को लेकर साफ तौर पर कुछ नहीं कहा गया, बस इतना पता चल सका कि रेल लाइन को साल 2002 में बंद कर दिया गया था. इसे 15 साल में रेलवे को सौंपा जाना था, लेकिन 17 साल के बाद भी ऐसा नहीं हुआ. वर्ष 2002 में जब झरिया रेल लाइन बंद किया गया था तब भी कोल फील्ड बचाव समिति और झरिया को लोगों ने इसका विरोध किया था, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला. एक बार फिर इस मामले को लेकर लोगों का गुस्सा सामने आया और वे अनूप साव के नेतृत्व में रेलवे स्टेशन पहुंचे, जहां रेलवे लाइन का शिलान्यास किया गया. 

अनूप साव ने इसे झरिया की जनता के साथ छल बताया 
अनूप साव के मुताबिक, 15 साल में रेल लाइन चालू करने का समझौता हुआ था, लेकिन 17 साल बाद भी इस पर अमल नहीं किया गया. ऐसे में जनता ने रेल लाइन का शिलान्यास कर जनप्रतिनिधियों और संबंधित अधिकारियों को उनके कर्तव्यों की याद दिलायी है. उम्मीद है कि इसके जरिये सोये हुए सिस्टम की नींद खुलेगी और विकास की ट्रेन वापस झरिया रेल लाइन से गुजरेगी.

-- Leena Singh, News Desk