बिहार चुनाव में शत प्रतिशत वोटिंग के लिए EC ने बढ़ाया कदम, बैलेट पेपर से भी होगा मतदान

एसकेएम में 17 से 20 अक्टूबर के बीच पटना जिले की पांच विधानसभा सीटों के लिए बैलेट वोटिंग की व्यवस्था की गई है.

बिहार चुनाव में शत प्रतिशत वोटिंग के लिए EC ने बढ़ाया कदम, बैलेट पेपर से भी होगा मतदान
बिहार चुनाव में बैलेट पेपर से भी होगा मतदान.

पटना: पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल (SKM) में बैलेट पेपर के जरिए मतदान की व्यवस्था की गई है. ये व्यवस्था उन लोगों के लिए हैं जो सरकारी कर्मचारी हैं और जिन्हें चुनाव कार्य में तैनात किए गए हैं. पटना की सभी 14 विधानसभाओं के लिए पहले और दूसरे फेज में वोटिंग होनी है. पहले फेज में पांच और दूसरे फेज में नौ विधानसभाओं के लिए मतदान 28 और 3 नवंबर को है. लिहाजा पटना के एसकेएम कैंपस में फिलहाल पांच विधानसभा के लिए बैलेट पत्रों के जरिए मतदान के इंतजाम किए गए हैं.

एसकेएम कैंपस में कोविड 19 के मानकों के मुताबिक, सरकारी कर्मचारियों के लिए वोटिंग की व्यवस्था की गई है. पटना जिले में पहले फेज में मोकामा, बाढ़, मसौढ़ी, पालीगंज और बिक्रम विधानसभा के लिए 28 अक्टूबर को वोटिंग हैं. यहां तैनात प्रमाणन पदाधिकारी नागेंद्र कुमार के मुताबिक, वैसे सरकारी कर्मचारी जिन्हें वोटिंग में हिस्सा लेना है, उनके लिए यहां व्यवस्था की गई है लेकिन वोटिंग की रफ्तार कम है. एसकेएम में 17 से 20 अक्टूबर के बीच पटना जिले की पांच विधानसभा सीटों के लिए बैलेट वोटिंग की व्यवस्था की गई है. हम लोग वोट के लिए पूरी तरह तैयार हैं.  

दरअसल, बिहार पहला ऐसा राज्य है जहां कोरोना के बीच चुनाव हो रहे हैं. लिहाजा इस बार चुनाव आयोग ने दो नई तरह की व्यवस्था वोटिंग के लिए की है. इस चुनाव के पहले तक सेना के जवानों और चुनाव में प्रतिनियुक्त कर्मचारियों के लिए बैलेट वोटिंग की व्यवस्था थी. लेकिन इस बार दो नई व्यवस्था लागू की गई है.

पटना जिले के पोस्टल बैलेट कोषांग के नोडल पदाधिकारी मनीष श्रीवास्तव के मुताबिक, आयोग ने 80 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों, दिव्यांगों और कोविड संक्रमित लोगों के लिए बैलेट पेपर के जरिए मत देने के इंतजाम किए गए हैं. ये तो पहला नया इंतजाम है. वहीं, दूसरे नए इंतजाम में वैसे सरकारी कर्मचारी जिन्हें अत्यावश्यक कामों में लगाया गया है यानि वैसे सरकारी कर्मचारी जिनकी ड्यूटी रेलवे,ऊर्जा,ट्रांसपोर्ट,ऑल इंडिया रेडियो में हैं उनके लिए भी इस बार से वोटिंग के इंतजाम है.

ये कर्मचारी संबंधित विधानसभा क्षेत्रों में मतदान बैलेट पेपर के जरिए करेंगे. यानि कोई मतदाता न छूटे वाले नारों को जमीन पर उतारने की तैयारी हो रही है. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Chunav 2020) इस बार कई मायने में ऐतिहासिक है. ऐतिहासिक इस मामले में कि कोरोना (Corona) के बीच भी यहां चुनाव हो रहे हैं और राजनीतिक पार्टी हो या मतदाता उनमें उत्साह दिख रहा है. लिहाजा चुनाव आयोग ने इस बार वोटिंग के लिए दो नई व्यवस्थाओं को जोड़कर शत प्रतिशत मतदान की दिशा में कदम बढ़ाए हैं.