close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंडः कर्ज से परेशान शख्स ने पत्नी-बच्चों की कर दी हत्या, खुद भी कर लिया सुसाइड

लाखों के कर्ज से तबाह एक व्यक्ति ने अपने पूरे परिवार की हत्या कर खुद आत्महत्या कर ली.

झारखंडः कर्ज से परेशान शख्स ने पत्नी-बच्चों की कर दी हत्या, खुद भी कर लिया सुसाइड
कर्ज से परेशान ने व्यक्ति ने परिवार की हत्या कर खुद भी जान दे दी.

चंदन कश्यप/गढ़वाः कर्ज के कारण जान देने की खबर अब तक देश के दूसरे प्रदेशों से आती थी. लेकिन अब तो झारखंड में भी ऐसे मामले सामने आने लगे है. ताजा मामला झारखंड के गढ़वा जिले का है. जहां लाखों के कर्ज से तबाह एक व्यक्ति ने अपने पूरे परिवार की हत्या कर खुद आत्महत्या कर ली.

घटना धुरकी थाना के रक्सी गांव निवासी शिवकुमार रजक एवं उसके पूरे परिवार का है. बताया जा रहा है कि खुद की बीमारी और लाखो रुपये कर्ज के कारण शिवकुमार बहुत परेशान था. कर्ज से मुक्ति के लिए उसने जान दे देना ही मुनासिब समझा. नतीजा हुआ कि उसने एक योजना के तहत पहले अपनी पत्नी और दो छोटी बच्चियों की हत्या कर उसे कुएं में डाल दिया. उसके उपरांत उसने खुद फांसी लगा अपनी जान दे दी.

एक ग्रामीण युवक की मानें तो वह अपनी बीमारी दिखाने के लिए रांची जाने के लिए उसे बुलाया था और सोमवार सुबह को जाना तय हुआ था. लेकिन उससे पहले ही ऐसी घटना घट गई. उधर मृतक शिवकुमार के भाई का कहना है कि वह लाखों रुपये के कर्ज से परेशान था. महाजन से भी पैसे लिए थे जिसका ब्याज़ बढ़ कर लाखो रुपये हो गया था.

शिवकुमार ने खेती के लिए एक सरकारी कुआं भी स्वीकृत कराया था जिसके एवज में उसे सरकारी बाबू को पंद्रह हजार रुपया रिश्वत भी देना पड़ा था. उसने वह पैसा कर्ज ले कर ही दिया था. एक अन्य ग्रामीण भी कर्ज लिए जाने के बात की तस्दीक करते हुए कहता है की एक समूह में मेरी पत्नी और शिवकुमार की भी पत्नी थी. उस समूह के जरिये शिवकुमार की पत्नी द्वारा कुछ पैसा लिया गया था.

ग्रामीण और उसके भाई द्वारा कही गयी बातों से यह साफ था कि शिवकुमार कर्ज के बोझ तले दबा हुआ था. जिसे चुकता कर निकल पाने में वह तनिक भी सक्षम नहीं था. अंततः उसने अपने साथ साथ अपने परिवार को भी ख़त्म कर दिया. लेकिन सुसाइड नोट के जरिये उसने यह भी बता दिया कि इसमें किसी का दोष नहीं है मैं स्वेक्षा से जान दे रहा हूं.

वहीं, इस घटना के बाद सियासत भी तेज हो गई है. जिले के नेता ने सरकार के विकास कार्य और योजनाओं को जुमला बताया. उनका कहना है कि जनता कर्ज से परेशान जान दे रही है और सरकार जुमले दोहराने में लगी हुई है. वहीं, पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है.