close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस रिक्शा चालक को मिला पीएम मोदी का पत्र, बदल गई जिंदगी...

रिक्शा चालक शंभू पासवान को पीएम मोदी का पत्र मिला है.

इस रिक्शा चालक को मिला पीएम मोदी का पत्र, बदल गई जिंदगी...
रिक्शा चालक को पीएम मोदी ने पत्र लिखा है.

हितेश कुमार/खगड़ियाः बिहार के खगड़िया जिले का एक रिक्शा चालक काफी सुर्खियों में है. क्यों कि उसे पीएम मोदी का पत्र मिला है. रिक्शा चालक पीएम मोदी को कई पत्र लिख चुका है और उन्हें पीएम मोदी का कई बार जवाब भी मिला है. अब पीएम मोदी ने रिक्शा चालक को पत्र लिखकर नए साल की शुभकामना दी है. वहीं, पीएम मोदी के साथ पत्र द्वारा बात किए जाने से उसकी और उस इलाके की तस्वीर बदल गई है.

खगड़िया जिले के गोगरी जमालपुर में रहने वाले शंभू पासवान जो पेश से रिक्सा चालक हैं. उन्होंने पीएम मोदी को 31 जनवरी को पत्र लिखकर नववर्ष की शुभकामना दी थी. अब उस पत्र का पीएम मोदी ने जवाब दिया है. उन्हें पीएम मोदी ने नए साल की शुभकामना दी है. उन्होंने इस पत्र को सभी को दिखाया है.

शंभू पासवान पहले भी कई बार पीएम मोदी को पत्र लिखा था. जिससे उसकी जिंदगी बदल गई साथ ही जहां वह रहते हैं उस स्थान की भी दशा बदल गई है. एक बार शंभू पासवान की पत्नी बीमार हो गई थी. वहीं, अस्पताल ने जो दवा लिखी थी वह उन्हें नहीं मिला. जिसके बाद शंभू पासवान ने पीएम मोदी को इस बारे में पत्र लिखा. लेकिन उसे नहीं पता था कि पीएम मोदी को पत्र लिखना इतना सफल होगा.

पीएम मोदी ने पत्र पर संज्ञान लिया, जिसके बाद शंभू की पत्नी का न सिर्फ इलाज किया गया. उन्हें अस्पताल की ओर से दवा भी उपलब्ध कराई गई. शंभू पासवान ने इसके बाद भी कई बार पत्र लिखे. उन्हें जब भी कोई समस्या दिखती थी तो वह पीएम मोदी को पत्राचार कर इसकी जानकारी देते हैं.

शंभू पासवान ने पीएम मोदी को अब तक 6 पत्र लिखा है. जिसमें से पांच का जवाब उन्हें मिला है. इससे उनकी जिंदगी बदल गई. साथ ही उनके मुहल्ले की भी स्थिति में सुधार किया गया है. मुहल्ले के नाले और सड़क निर्माण तक किया गया है.

स्थानीय लोगों की मानें तो शंभू पासवान रिक्सा चालक है और अपने मेहनत मजदूरी से घर चलाते हैं. मोदी जी को वह हमेशा पत्र लिखते हैं, और पत्र का जबाब भी आता है. वहीं, केवल इतना मलाल है कि प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का लाभ अबतक इनको नहीं मिल पाया है. जिसको लेकर हाल के दिनो में प्रधानमंत्री को शंभू पासवान पत्र लिख चुके हैं. शायद उस पत्र का भी जबाब मिल जाये.