close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: नाम बदल-बदलकर जालसाजी करता था किन्नर, आखिरकार पुलिस ने पकड़ा

गिरफ्तार अपराधी को देखने से पहले तो पुलिस को विश्वास ही नहीं हुआ. लेकिन, जब मिले सुराग के आधार पर उससे पूछताछ की गई तो एक-एक कर सारे राज सामने आ गए.  

बिहार: नाम बदल-बदलकर जालसाजी करता था किन्नर, आखिरकार पुलिस ने पकड़ा
पूछताछ में पता चला कि गिरफ्तार अभियुक्त का पहले से अपराधिक रिकार्ड रहा है.

बक्सर: कभी चंदन तथा कभी चांदनी के नाम से जाना जाने वाला एक अपराधी कई थानों की पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ था.  ऐसा ही एक मामला बिहार के बक्सर में सामने आया जहां कई बड़े पदाधिकारियों को फोन कर धमकी देने वाले एक अपराधी को गिरफ्तार कर लिया गया. 

गिरफ्तार अपराधी को देखने से पहले तो पुलिस को विश्वास ही नहीं हुआ. लेकिन, जब मिले सुराग के आधार पर उससे पूछताछ की गई तो एक-एक कर सारे राज सामने आ गए.

दरअसल, पिछले दिनों ओवरलोड ट्रकों की जांच के दौरान खनन पदाधिकारी पर जब्त ट्रक को छोड़ने के लिए दबाव बनाए जाने का मामला सामने आया था. जिसमें खुद को उच्चाधिकारी बताते हुए एक व्यक्ति ने खनन निरीक्षक को तबादला की धमकी देते हुए तत्काल जब्त ट्रक को छोड़ने के लिए दबाव बनाया था. घटना की जांच के क्रम में बक्सर पुलिस ने यूपी के एक किन्नर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

 

इसके बारे में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक उपेंद्रनाथ वर्मा ने बताया कि घटना 25 सितम्बर की है, जब खनन निरीक्षक सतेंद्र प्रसाद सिंह द्वारा चौसा में ओवरलोड वाहनों की जांच की जा रही थी. इस क्रम में उनके द्वारा बालू लदे एक ओवरलोड ट्रक को जब्त किया गया था. वाहन को जब्त करने के कुछ ही देर बाद उनके मोबाइल पर एक फोन कॉल आया. जिसमें फोनकर्ता ने खुद को यूपी में सचिव स्तर का अधिकारी बताते हुए उन्हें जब्त ट्रक को तत्काल छोड़ देने का आदेश दिया. 

इससे इंकार करने पर फोनकर्ता ने तबादला करवाने से लेकर अधिकारी की नौकरी तक खा जाने की धमकी दे दी. उच्चाधिकारी का मामला होने को ले घबड़ाए खनन पदाधिकारी ने अपने उच्चाधिकारियों से संपर्क कर सलाह मांगी. इसके बाद उन्होंने मुफ्फसिल थाना में फोन नम्बर दर्ज कराते हुए अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी.

इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक उपेंद्रनाथ वर्मा ने तत्काल सदर एसडीपीओ सतीश कुमार के नेतृत्व में मुफ्फसिल थानाध्यक्ष मुकेश कुमार के साथ डीआइयू के अवर निरीक्षक राजेश कुमार मालाकार तथा सिपाही सोनू कुमार की टीम गठित कर इसकी जांच का आदेश जारी किया.

 पूरे मामले की एसपी खुद लगातार मॉनिटरिग करते रहे. इस बीच मोबाइल नम्बर को ट्रेस करते हुए पुलिस फोनकर्ता तक पहुंच गई. जिसकी पहचान यूपी के बलिया जिला अंतर्गत बांसडीड थाना के गोठौली निवासी चांदनी उर्फ चंदन किन्नर के रूप में की गई. 

पूछताछ में पता चला कि गिरफ्तार अभियुक्त का पूर्व से अपराधिक रिकार्ड रहा है. इसके उपर पहले से यूपी में फर्जीवाड़ा तथा धोखाघड़ी के अनेक मामले दर्ज हैं. वहीं बक्सर के नैनीजोर थाना में भी आज ही उसके खिलाफ थानाध्यक्ष को फोन कर हड़काने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है. मामले में गिरफ्तार चांदनी उर्फ चंदन किन्नर को पुलिस ने जेल भेज दिया.