बेगूसराय में सड़क पर उतरे लोगों की पुलिस ने पहले की पिटाई, फिर कराई उठक-बैठक

प्रधानमंत्री के द्वारा हाथ जोड़कर अपील करने का उन पर कोई असर असर नहीं दिखता है. पुलिस का कहना है कि लोग दवा का पुराना पूर्जा लेकर भी दवा का बहाना बना सड़कों पर निकल रहे हैं. 

बेगूसराय में सड़क पर उतरे लोगों की पुलिस ने पहले की पिटाई, फिर कराई उठक-बैठक
बेगूसराय में पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान बाहर जाने वाले लोगों की पहले की पिटाई फिर कराई उठक-बैठक. (फाइल फोटो)

दरभंगा: बिहार के बेगूसराय में लॉकडाउन के दिन बेवजह घरों से निकले लोगों की ना सिर्फ पिटाई की गई बल्कि उसे बीच सड़क पर उठक बैठक भी कराया गया. दरअसल बिहार सरकार के लॉकडाउन के तीसरे दिन या यूं कहें कि केन्द्र सरकार के लॉकडाउन के पहले दिन पुलिस सड़कों पर सख्त दिखी. 

हर आने-जाने वालों की सघन चेकिंग की गई और बेवजह निकले लोगों की पिटाई की गई. इस दौरान कई बाइकसवारों और पिकअप चलाने वाले को बीच सड़क खड़ा कर उठक-बैठक भी कराई गई. यह सच है कि लोग बेवजह घरों से निकलते हैं और कोई ना कोई बहाना बनाकर पुलिस को समझाने की कोशिश करते हैं. 

प्रधानमंत्री के द्वारा हाथ जोड़कर अपील करने का उन पर कोई असर असर नहीं दिखता है. पुलिस का कहना है कि लोग दवा का पुराना पूर्जा लेकर भी दवा का बहाना बना सड़कों पर निकल रहे हैं. 

शुरुआती दौर में उन्हें समझाया बुझाया गया और जब संख्या बढ़ने लगी तो उसकी पिटाई की और उठक बैठक करा कर उसे छोड़ दिया गया. उन्हें हिदायत दी गई कि वह बेवजह घरों से नहीं निकले. लॉकडाउन का असर बाजारों में भी दिख रहा है. वहीं दूसरी ओर लोग सामानों की खरीदारी के लिए दुकानों पर भीड़ लगा रहे हैं. 

इसके अलावा लोगों में जागरुकता को लेकर सत्य साईं पंप लाखों पर हाथ धोने की व्यवस्था की गई है, जो लोग भी पंप पर पेट्रोल लेने पहुंच रहे हैं. पहले उनकी हाथ धुलाई जाती है, उसके बाद उन्हें पेट्रोल दिया जाता है.