close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

समस्तीपुर: आरोपी को गिरफ्तार करने गई पुलिस ने महिलाओं पर बरसाई लाठियां

पुलिस की इस कार्यशैली से नाराज लोगों ने जब इसका विरोध किया तो पुलिस ने खदेड़-खदेड़ कर लोगों को पीटा. जिसके बाद आक्रोशित लोगों ने भी पुलिस के ऊपर रोड़ेबाजी शुरू कर दी.

समस्तीपुर: आरोपी को गिरफ्तार करने गई पुलिस ने महिलाओं पर बरसाई लाठियां
पुलिस ने आसपास के लोगों पर भी जमकर लाठियां बरसाईं.

समस्तीपुर: बिहार में आए दिन पुलिस की बर्बरता पूर्ण कार्यवाही और बेरहमी की तस्वीर देखने को मिलती है. इसके बाद भी पुलिस की कार्यशैली में कोई सुधार नहीं हो रहा है. ऐसा ही मामला समस्तीपुर के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के आसिनपुर गांव में देखने को मिला जहां पुलिस ने वारंटी पर गिरफ्तारी के दौरान घर की महिलाओं और बच्चों के साथ न सिर्फ बेरहमी से मारपीट की बल्कि उनके साथ दुर्व्यवहार करते हुए गाली-गलौज भी की. 

पुलिस की इस कार्यशैली से नाराज लोगों ने जब इसका विरोध किया तो पुलिस ने खदेड़-खदेड़ कर लोगों को पीटा. जिसके बाद आक्रोशित लोगों ने भी पुलिस के ऊपर रोड़ेबाजी शुरू कर दी. लोगों का आक्रोश देख कर पुलिस मौके से भाग निकली. घटना के संबंध में इस परिवार के पीड़ित लोगों ने बताया कि कि उनके गांव के ही एक सुरेंद्र पासवान आए दिन लोगों के साथ गाली-गलौज करता था. 

 

इसी को लेकर 31 जुलाई को समाज के प्रतिनिधियों के द्वारा एक पंचायत की गई थी उसी दौरान आरोपी के द्वारा उस पंचायत में भी प्रतिनिधियों के साथ गाली-गलौज करते हुए उपस्थित लोगों के साथ मारपीट शुरू कर दी गई. उस दौरान दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई पीड़ित लोगों का बताना है कि इस घटना के बाद दोनों ही पक्ष के लोगों ने थाने में मामला दर्ज कराया था. 

इसी के बाद पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने पहुंची. पुलिस को देखकर आरोपी भागने लगे जिसके बाद पुलिस ने आसपास के लोगों पर भी जमकर लाठियां बरसाईं और गालीगलौज बी की. पुलिस की बर्बरता पूर्ण कार्रवाई के बाद लोगों का आक्रोश भड़क गया और लोगों ने पुलिस के ऊपर रोड़ेबाजी शुरू कर दी. 

लोगों के गुस्से को देखकर पुलिस वहां से भाग निकली. इस दौरान पुलिस ने एक महिला सहित चार लोगों को हिरासत में भी ले लिया है. वहीं अब इस पूरे मामले पर पुलिस के अधिकारी कुछ भी बोलने से बचते नजर आ रहे हैं. लेकिन सवाल उठता है कि आखिर ऐसे पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई कब होगी?