बिहार: दानापुर में अपहरण कर मांगे 20 लाख, इस तरह पुलिस ने बचाई अभिषेक की जान

हैरानी की बात ये है कि अपहरण शिवसेना के जिला सचिव के गाड़ी से की गई है. रूपसपुर थाना क्षेत्र के साईं रेसिडेंसी से हथियार के बल पर यह अपहरण किया गया परिजनों से 20 लाख रुपये की फिरौती की मांग की गई.

बिहार: दानापुर में अपहरण कर मांगे 20 लाख, इस तरह पुलिस ने बचाई अभिषेक की जान
पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए मामले में जुटी और अपहरणकर्ताओं को खोज निकाला. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इश्तियाक, पटना: दानापुर के रूपसपुर में अभिषेक नाम के एक व्यक्ति की हथियार के बल पर अपहरण कर लिया गया. हैरानी की बात ये है कि अपहरण शिवसेना के जिला सचिव के गाड़ी से की गई है. रूपसपुर थाना क्षेत्र के साईं रेसिडेंसी से हथियार के बल पर यह अपहरण किया गया परिजनों से 20 लाख रुपये की फिरौती की मांग की गई.

पुलिस को जब इसकी सूचना मिली तो पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए मामले में जुटी और अपहरणकर्ताओं को खोज निकाला. पुलिस ने अपहरणकर्ताओं में से 03 को गिरफ्तार कर लिया साथ ही अभिषेक को भी बरामद कर लिया. इनके पास से अपहरण में इस्तेमाल 5 मोबाइल एक पिस्टल और तीन गाड़ी बरामद किया गया जी जजिस्मे से एक शिवसेना के जिला सचिव की गाड़ी से किया गया है. 

अपहृत अभिषेक ने बताया कि रात में हथियार लेकर आए और हमारा अपहरण कर लिया आंख में पट्टी बांधी और गाड़ी में बैठा लिया गया कहां ले गए यह पता नहीं चला. वही अपहृत अभिषेक के भाई ज्योति कुमार ने बताया कि अपहरण करने के बाद अपहरणकर्ताओं ने हमें उसी के नंबर से फोन किया और 20 लाख की फिरौती की मांग की हम ने पुलिस को सूचना दिया और पुलिस ने कार्रवाई की. उसके बाद बरामद की भाई के आंख पर पट्टी बांधकर ले गया था और राजापुल भट्ठा के साइड गंगा किनारे ले गए. उसी दौरान पुलिस ने उन्हें पकड़ा.

फिलहाल पुलिस इस मामले में पूरी तहकीकात कर रही है इस मामले में गिरफ्तार हुए अपहरणकर्ताओं से भी पूछताछ की जा रही है. अपहरणकर्ताओं में आतिश कुमार सिंह, आकाश कुमार और नवीन कुमार को गिराफ्तार किया गया है इनके पास से लोडेड पिस्टल और शिवसेना के गाड़ी के साथ 5 मोबाइल बरामद किया गया है . इसमे पुलिस ने 3 गाड़ी बरामद किया है.

अपहृत अभिषेक को बरामद करने वाली पुलिस और पटना पश्चिमी के सिटी एसपी अशोक कुमार मिश्रा का कहना है कि अपहरण की घटना हुई थी और इसके बाद हमें सूचना दिया गया था और सूचना के बाद पुलिस ने कार्रवाई में जुट गई और मोबाइल के लोकेशन से अपराधियों का पता लगाकर उसके पास पहुंची और उसे गिरफ्तार कर ली फिलहाल और भी तथ्यों की जांच की जा रही है इस मामले में अपहरणकर्ताओं ने बीस लाख रुपये की फिरौती की भी मांग की थी.