झारखंड: चाईबासा के जंगल में 7 ग्रामीणों का शव बरामद, सरकार ने दिए SIT गठन के निर्देश

रणसी बुढ आदिवासियों की एक पंथ मानता है और पत्थरगढ़ी का समर्थक भी है. जबकि जेम्स बुढ ना तो रणसी के पंथ को मानता है और ना ही पत्थरगढ़ी का समर्थन करता है.

झारखंड: चाईबासा के जंगल में 7 ग्रामीणों का शव बरामद, सरकार ने दिए SIT गठन के निर्देश
चाईबासा के पोरहाट जंगल से पुलिस ने बरामद किए 7 शव. (फाइल फोटो)

जमशेदपुर: सिंहभूम जिला के गुदड़ी थाना के बुरुगेलीकेरा गांव में पत्थरगढ़ी विवाद में मारे गए सभी 7 ग्रामीणों के शव को पुलिस ने बरामद कर लिया है. सभी की गला रेत कर निर्मम हत्या की गई है. शव का धड़ अलग व सिर अलग मिला है, जबकि लापता ग्रामीणों की तलाश जारी है. बुधवार सुबह 5 बजे अहले से एसपी इंद्रजीत महथा व डीसी अरवा राजकमल के साथ सीआरपीएफ 60 बटालियन के कमांडेंट आनंद जेराई के नेतृत्व में घंटों सर्च आपरेशन चला, जिसके बाद शव पास के जंगल से बरामद किया गया.

चाईबासा में 7 लोगों की हत्या के बाद सीएम ने डीजीपी सहित पुलिस के अधिकारियों के साथ प्रोजेक्ट भवन में बैठक आयोजित की. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पूरी घटना को गंभीरता से लिया है. बैठक के बाद एडीजी मुरारी लाल मीणा ने बताया कि चाईबासा घटना को लेकर डीएसपी स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया जाएगा.

गांव में पूर्व मुखियापति रणसी बुढ और उपमुखिया पति मृतक जेम्स बुढ के बीच आपसी रंजिश थी. रणसी बुढ आदिवासियों की एक पंथ मानता है और पत्थरगढ़ी का समर्थक भी है. जबकि जेम्स बुढ ना तो रणसी के पंथ को मानता है और ना ही पत्थरगढ़ी का समर्थन करता है. हालांकि पुलिस इस मामले को अभी पत्थरगढ़ी से जोड़ कर बताने से कतरा रही है, घटना के बाद दोनों गुटों में भारी तनाव है.

घटना के बारे में हत्या के मुख्य आरोपी रणसी बुढ का कहना है कि जेम्स और उसके समर्थक गांव वालों को काफी परेशान करते थे. 16 जनवरी को पांच घरों में तोड़फोड़ की, मारपीट की. 19 जनवरी को जेम्स बुढ और उसके 9 लोगों को बैठक में बुलाया गया, लेकिन बैठक शुरू होने पहले दो भाग गए, जेम्स सहित 7 लोगों की हत्या कर दी गई व शव जंगल मे फेंक दिया गया.

एसपी इंद्रजीत महथा ने घटना के बारे में पूरी जानकारी दी. कहा कि इस मामले में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज होगी. गांववालों ने मामले की पूरी तरह दबा दिया था, लेकिन पुलिस को मंगलवार को जैसे ही जानकारी मिली, वह जांच में जुट गई. बुधवार को सभी शव बरामद कर लिए गए. मामले की हर एंगल से जांच हो रही है. हालांकि एसपी सीधे पत्थरगढ़ी से जोड़ कर कुछ भी कहने से बचते रहे. डीसी अरवा राजकमल ने कहा कि जघन्य अपराध हुआ है. मृतकों के परिजनों को सरकारी मुआवजा दिया जाएगा.