close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची: बच्चा न होने पर देवर के बेटे का किया अपहरण, पुलिस ने किया सकुशल बरामद

मुख्य आरोपी दुखु मुंडा और उसकी भाभी को पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही पकड़ लिया. दोनों ने ही मिलकर बच्चें की अपहरण की साजिश रची थी. पहले बच्चे का मेडिकल कराया गया. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे को पुलिस को सौंप दिया. एसएसपी अनीश गुप्ता के निर्देश पर गठित टीम को ये बड़ी सफलता मिली.

रांची: बच्चा न होने पर देवर के बेटे का किया अपहरण, पुलिस ने किया सकुशल बरामद
मामले के दोनों आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

रांची: झारखंड के रांची के बुंडू के सिरकाडीह गांव में छह महीने के बच्चे के अपहरण मामले का पुलिस ने खुलासा किया. 24 घंटे के अंदर ही पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा कर लिया. साथ ही बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया. पूरे मामले के दोनों आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

मुख्य आरोपी दुखु मुंडा और उसकी भाभी को पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही पकड़ लिया. दोनों ने ही मिलकर बच्चें की अपहरण की साजिश रची थी. पहले बच्चें का मेडिकल कराया गया. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे को पुलिस को सौंप दिया. एसएसपी अनीश गुप्ता के निर्देश पर गठित टीम को ये बड़ी सफलता मिली.

दोनों ही अपराधियों से पुलिस पूछताछ कर रही है. उनकी निशानदेही पर संभावित ठिकानों पर छापेमारी जारी है. हांलकि जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि दुखु मुंडा की भाभी को बच्चा नहीं हो रहा था.जिसकी वजह से इस पूरी घटना को अंजाम दिया गया.

रांची एसएसपी अनीश गुप्ता ने बताया कि सिरकाडीह गांव से 6 महीने के एक बच्चे का अपहरण किया गया था. हथियार के बल पर इस बच्चे को अपराधियों ने उठा लिया था. घटना की गंभीरता को देखते हुए पूरे मामले में एसपी के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया . पुलिस ने जगह- जगह दबिश दी. छापेमारी में 24 घंटे के अंदर बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया गया है. इस घटना में शामिल 2 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. घटना में मुख्य अभियुक्त और उसकी भाभी की गिरफ्तारी है. दोनों ही आरोपी सोनाहातू के रहने वाले हैं.

आपको ये बता दें कि सिरकाडीह गांव  में 2 हथियारबंद अपराधियों ने 6 महीने के बच्चें को घर से अगवा कर लिया था. बच्चें का मुंह झूठा का कार्यक्रम था. इसी दौरान इस पूरी घटना को अंजाम दिया गया. पुलिस को तुरंत इस मामले की सूचना दी गई. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने तुरंत टीम गठित की. 24 घंटे के भीतर ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. बच्चा भी बिल्कुल सही है.