close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छपरा, वैशाली की घटना पर विपक्ष ने उठाए सवाल, बीजेपी-जेडीयू ने किया बचाव

छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में तीन और वैशाली में ग्राहक सेवा केन्द्र लूटने की नीयत से आए एक शख्स की हत्या के बाद बिहार में राजनीति शुरू हो गई है. 

छपरा, वैशाली की घटना पर विपक्ष ने उठाए सवाल, बीजेपी-जेडीयू ने किया बचाव
छपरा मॉब लिंचिंग पर सियासत जारी.

पटना : छपरा और वैशाली में उन्मादी भीड़ के शिकार हुए लोगों पर राजनीति शुरू हो गई है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) ने जहां सरकार का बचाव किया है वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने कहा है कि, बिहार बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है. जिन लोगों के साथ नीतीश कुमार खड़े हैं वहां अल्पसंख्यक और दलितों के लिए कोई जगह नहीं है.

छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में तीन और वैशाली में ग्राहक सेवा केन्द्र लूटने की नीयत से आए एक शख्स की हत्या के बाद बिहार में राजनीति शुरू हो गई है. आरजेडी ने इस मसले पर नीतीश कुमार और बीजेपी पर जोरदार हमला बोला है.

आरजेडी विधायक रामानुज ने कहा कि बिहार बर्बादी के कगार पर पहुंचा है और इसे पहुंचाया है बीजेपी ने. रामानुज ने कहा कि जिस विचारधारा के साथ नीतीश कुमार खड़े हैं, वहां अल्पसंख्यकों, दलितों और पीड़ितों को जगह नहीं मिलती है. नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ दोबारा सरकार बना ली और इसी का नतीजा है कि अपराधी किस्म के लोगों का मनोबल बढ़ा है. सरकार को कठोरतम कदम उठाने चाहिए.

दूसरी ओर जेडीयू ने छपरा और वैशाली की घटना को शर्मनाक बताया है. पार्टी प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि जिस तरह की वारदात दोनों जगहों पर हुई है उससे बिहार शर्मशार है और ये मानवता के खिलाफ है. साथ ही उन्होंने कहा कि बिहार सरकार अपराध से समझौता नहीं करेगी. बिहार उन राज्यों में शामिल है जहां अल्पसंख्यक, दलित सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं. जिन लोगों ने इन वारदातों को अंजाम दिया है उसे बख्शा नहीं जाएगा.

बीजेपी नेता और विधान परिषद सदस्य नवल किशोर यादव ने कहा है कि अपराध में उतार-चढ़ाव तो होते रहते हैं, लेकिन जिस तरह से दोनों शहरों में वारदात हुई है वो बेशक शर्मनाक है. जिन पुलिस अधिकारियों को जिम्मेदारी मिली है उन्हें कानून समझ में आना चाहिए. हालांकि नीतीश कुमार बढ़िया काम कर रहे हैं. जनता के सामने नेता ही जवाबदेह होते हैं.

बिहार में हर बार अपराध की वारदात पर सरकार बेहतर विधि व्यवस्था की बात करती है, लेकिन जिस तरह से लोग कानून हाथ में लेकर हादसों को अंजाम दे रहे हैं वह सरकार के लिए आनेवाले दिनों में सिरदर्द साबित हो सकता है.