close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

समस्तीपुर मेडिकल कॉलेज पर सियासत शुरू, JDU के ही 2 कद्दावर नेता आमने-सामने

माहेश्वर हजारी ने विजय चौधरी का नाम लिये बैगर कहा कि एक नेता के प्रभाव में आकर मेडिकल कॉलेज की जगह को बदला गया है, जिससे पूरे जिले को लोगों को लाभ नहीं मिलेगा.

समस्तीपुर मेडिकल कॉलेज पर सियासत शुरू, JDU के ही 2 कद्दावर नेता आमने-सामने
समस्तीपुर मेडिकल कॉलेज पर सियासत शुरू. (फाइल फोटो)

पटना: समस्तीपुर के सरायरंजन में खुलने जा रहे मेडिकल कॉलेज (Samastipur Medical College) को लेकर जनता दल युनाइटेड (JDU) के दो कद्दावर नेता आमने-सामने आ गये हैं. मंत्री माहेश्वर हजारी ने बिना नाम लिये विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी पर निशाना साधा है. पार्टी के अंदर ही हो रहे विरोध से जदयू असमंजस में है, जबकि विपक्ष जदयू पर निशाना साध रहा है. विपक्ष का कहना है कि आने वाले चुनाव से पहले पार्टी ताश के पत्तों की तरह बिखर जाएगी.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सरायरंजन में भले ही मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास कर दिया है, लेकिन उनकी पार्टी में इसको लेकर ऑल इज वेल नहीं है. समस्तीपुर जिले से आने वाले दो कद्दावर नेताओं ने इसे अहम की लड़ाई बना लिया है. शिलान्यास से एन वक्त पहले बिहार सरकार में मंत्री माहेश्वर हजारी ने अपनी नाराजगी जगजाहिर कर दी.

माहेश्वर हजारी ने विजय चौधरी का नाम लिये बैगर कहा कि एक नेता के प्रभाव में आकर मेडिकल कॉलेज की जगह को बदला गया है, जिससे पूरे जिले को लोगों को लाभ नहीं मिलेगा. इसको लेकर हमने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी शिकायत की थी, वो हमारी बात मान भी गये थे, लेकिन अब शिलान्यास हो गया. उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर बन रहा है, जो एमसीआई की गाइड लाइंस के भी खिलाफ है.

माहेश्वर हजारी के विरोध पर जदयू नेताओं में खलबली है, वो इस मुद्दे पर ठीक से जवाब नहीं दे पा रहे हैं. जदयू के असमंजस के बीच राजद ने निशाना साधा है, उसका कहना है कि हमारी जो आशंका है, वो लगातार सामने आ रही है. अब वो दिन दूर नहीं, जब जदयू ताश के पत्तों की तरह बिखर जायेगी.

मेडिकल कॉलेज को लेकर माहेश्वर हजारी और विजय कुमार चौधरी के बीच तनातनी नई नहीं है. जबसे मेडिकल कॉलेज खोलने की चर्चा शुरू हुई, तभी से दोनों नेताओं में इसको लेकर मतभेद दिखते रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तभी से माहेश्वर हजारी ने अपनी नाराजगी जतायी, लेकिन विजय चौधरी का तर्क भारी पड़ा. अब सरायरंजन में मेडिकल कॉलेज खुलने जा रहा है.