लालू यादव का RJD राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना तय, बिहार में शुरू हुई सियासत

कांग्रेसी नेताओं ने भी आरजेडी और गठबंधन के लिए लालू प्रसाद के पद पर बने रहने को जरुरी बताया है. वहीं बीजेपी ने आरजेडी को जेल से चलनेवाली पार्टी करार दिया है. लालू प्रसाद ने आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए अपना नॉमिनेशन कर दिया.

लालू यादव का RJD राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना तय, बिहार में शुरू हुई सियासत
मंगलवार को अध्यक्ष पद के लिए लालू प्रसाद का सिंगल नॉमिनेशन हुआ. (फाइल फोटो)

पटना: आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रुप में 11वीं बार लालू प्रसाद यादव का चुना जाना तय माना जा रहा है. मंगलवार को अध्यक्ष पद के लिए लालू प्रसाद का सिंगल नॉमिनेशन हुआ. कांग्रेसी नेताओं ने भी आरजेडी और गठबंधन के लिए लालू प्रसाद के पद पर बने रहने को जरुरी बताया है. वहीं बीजेपी ने आरजेडी को जेल से चलनेवाली पार्टी करार दिया है.
 
लालू प्रसाद ने आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए अपना नॉमिनेशन कर दिया. उनकी जगह उनके बेटे तेजस्वी तेजप्रताप पार्टी के सीनियर लीडर रघुवंश प्रसाद सिंह कांति सिंह और विधायक भोला यादव ने नॉमिनेशन फाइल किया. इस मौके पर पार्टी के तमाम बडे नेता मौजूद रहे. 

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए लालू प्रसाद का सिंगल नॉमिनेशन हुआ. इसलिए ये तय माना जा रहा है कि लालू प्रसाद पार्टी में 11वीं बार राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर लगातार बैठेंगे. इधर तेजस्वी यादव ने नॉमिनेशन के बाद कहा कि लालू प्रसाद के नेतृत्व में ही पार्टी 2020 का चुनाव लडेगी और जीतेगी. 

वहीं, राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद के लिए खुद की दावेदारी पर तेजस्वी ने कहा कि मैंने कभी इस बात की चर्चा नहीं सुनी. पार्टी ने मुझे नेता प्रतिपक्ष और सीएम उम्मीदवार के रुप में जिम्मेवारी दे रखी है. मैं उसी को निभाने में लगा हूं.
 
लालू प्रसाद के नॉमिनेशन को लेकर आरजेडी की सबसे करीबी पार्टी कांग्रेस में भी काफी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है. पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा है कि लालू प्रसाद अनुभवी नेता हैं. उनसे सबको सीखने की जरुरत है. जहां तक तेजस्वी की बात है तो वो नेता प्रतिपक्ष हैं लेकिन अभी उन्हें भी लालू प्रसाद ने सीखने की जरुरत है.
 
पूर्व मंत्री कांग्रेस नेता रविन्द्र मिश्रा ने कहा है कि लालू प्रसाद का अध्यक्ष बनना उनकी पार्टी और गठबंधन दोनों के हित में है. लालू प्रसाद की छवि राष्ट्रीय स्तर पर समाजवादी नेता के रुप में है.तेजस्वी यादव को मौका नहीं दिये जाने पर कांग्रेसी नेता ने कहा कि पार्टी में बडे नेता खुद को उपेक्षित न समझें इसलिए ऐसा फैसला लिया गया है. वैसे भी तेजस्वी के नाम पर जिच की स्थिती रही होगी. वहीं जेल से पार्टी चलाये जाने के सवाल पर रविन्द्र मिश्रा ने कहा कि ये राष्ट्रीय स्तर पर बहस का विषय बन सकता है.
 
इधर कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने जेल से पार्टी चलाने और तेजस्वी यादव को मौका नहीं दिये जाने के सवाल पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया. मदन मोहन झा ने कहा कि ये आरजेडी का मसला है कि किसको पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाती है.  
 
बीजेपी ने लालू प्रसाद को दुबारा राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने पर तंज कसा है. पार्टी के प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा है कि आरजेडी जेल और बेल वाली पार्टी है. जेलवाला पार्टी चलाएगा और बेल वाला सीएम उम्मीदवार बन गया है. तेजस्वी यादव नेता प्रतिपक्ष की भूमिका तो निभा नहीं पाए अब सीएम बनने का सपना देख रहे. ऐसा न हो कि सीएम बनने का सपना देखते देखते नेता प्रतिपक्ष भी बनने लायक नहीं रहे.