बिहार में वर्चुअल रैली-गरीब अधिकार दिवस की तारीखों में बदलाव पर गरमाई राजनीति, जमकर हो रही बयानबाजी

बिहार में इस साल होने वाले चुनाव को लेकर राजनीति चरम पर है सत्ता पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. बीजेपी ने 9 जून को वर्चुअल रैली करने का ऐलान किया तो वही 2 घंटे बाद तेजस्वी यादव ने आरजेडी की ओर से गरीब अधिकार दिवस को  मनाने का ऐलान किया.

बिहार में वर्चुअल रैली-गरीब अधिकार दिवस की तारीखों में बदलाव पर गरमाई राजनीति, जमकर हो रही बयानबाजी
सत्ता पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.(फाइल फोटो)

पटना: बिहार में इस साल होने वाले चुनाव को लेकर राजनीति चरम पर है सत्ता पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. बीजेपी ने 9 जून को वर्चुअल रैली करने का ऐलान किया तो वही 2 घंटे बाद तेजस्वी यादव ने आरजेडी की ओर से गरीब अधिकार दिवस को  मनाने का ऐलान किया. अब बीजेपी 7 जून को वर्चुअल रैली करेगी तो आरजेडी ने भी अपने कार्यक्रम में बदलाव करते हुए 7 जून को ही गरीब अधिकार दिवस मनाने ऐलान कर दिया .

बीजेपी के सहयोगी पार्टी जेडीयू ने बीजेपी के रैली को समर्थन करते हुए आरजेडी को कुएं का मेंढक कहा है. पार्टी के प्रवक्ता राजीव रंजन का ने कहा है कि वर्चुअल रैली लोकतंत्र का ऐसा प्रयोग है जो पहले देश में नही हुआ है और इस प्रयोग के जरिय डिजिटल प्लेटफार्म पर गतिविधियां बढ़ेगी. जेडयू भी डिजिटल माध्यम से  7 से 12 जून तक बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार संबोधित करेंगे.

उन्होंने कहा कि 9 की बजाय बीजेपी ने 7 को अपना वर्चुअल रैली करने का ऐलान किया, इसके कई कारण हो सकते हैं. मतदाताओं तक पहुंचने के लिए तारीखों को लेकर कई बार फैसले बीजेपी लेती है. लोकतंत्र में कोई पार्टी अपनी रैली कर रही है तो आरजेडी को परेशानी क्या है? आरजेडी भी रैली करे लोगों तक पहुंचने की कोशिश करे न कि लोगो को बरगलाने की 15 वर्ष के आरजेडी शासन काल आज भी लोगों को याद आते हैं तो रोंगटे सिहर जाते हैं.

वहीं, जेडीयू के द्वारा आरजेडी को कुएं का मेढ़क कहने पर आरजेडी ने  पलटवार किया है. पार्टी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने जडीयी को झूठा दावा अनलिमिटेड पार्टी कहा है कि तो बीजेपी को बड़का झूठा पार्टी कहा है. वर्चुअल रैली को लेकर प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि जब बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने वर्चुअल रैली  की घोषणा किया तो 2 घंटे के अंदर तेजस्वी यादव ने प्रतिकार किया तो अमित शाह ने 9 जून को वर्चुअल रैली करने से इनकार कर दिया और अब 7 जून को कर रहे है.  यह प्रतिकार है जो होकर रहेगा मजदूरों के मौत का जश्न आरजेडी बीजेपी को नही मनाने देगी. आरजेडी 7 जून को प्रतिकार करेगी और अब बीजेपी जो भी तारीख बदल ले उसकी स्थिति ठीक नही रहेगी.

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रवक्ता विजय यादव की माने तो रैली करने का सबको अपना अधिकार है. तेजस्वी यादव 9 तारीख की घोषणा करने के बाद 7 तारीख को अपना कार्यक्रम जो करने जा रहे हैं. जिस प्रकार देश में पहले बीजेपी दंगा फैला रहती थी हिंदू मुस्लिम के नाम पर उसी प्रकार तेजस्वी यादव चाह रहे हैं कि बिहार में अशांति हो तेजस्वी भी अपनी रैली करे बल्कि दूसरे पार्टियों को डिस्टर्ब ना करें. बीजेपी अगर अपनी ताकत दिखा रहा है तो उसे दिखाने दें बिहार में मजदूरों का शोषण करने का काम तेजस्वी ना करें.

वहीं, बीजेपी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने आरजेडी पर  पलटवार  किया कहा की आरजेडी बीजेपी से डर गई है. बीजेपी का फोबिया आरजेडी को हो गया है. जब देश मे लोग कोरोना योद्धा के लिए थाली ताली बजा रहे थे तो आरजेडी के लोग विरोध कर रहे थे. अब खुद थाली ताली  बजा रहे है ये लोग कंसेप्ट चोर है. जेडीयू ने आरजेडी को सही कहा है कि कुएं की मेढ़क है बल्कि यह बिल के चूहे है.