close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: गया में सामूहिक दुष्कर्म मामले में राजनीति तेज, आरजेडी ने बताया सरकार की लापरवाही

भाई वीरेंद्र ने कहा है कि, जिस पुलिसिंग और कानून व्यवस्था की बात बिहार में हो रही है उस वक्त पुलिस कहां थी. जब पंचायत के फैसले के बाद पीड़ित को शर्मसार किया गया. 

 बिहार: गया में सामूहिक दुष्कर्म मामले में राजनीति तेज, आरजेडी ने बताया सरकार की लापरवाही
भाई वीरेंद्र ने कहा है कि पूरी घटना के लिए राज्य सरकार और इसकी मशीनरी जिम्मेदार है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के गया के मोहनपुर में नाबालिग छात्रा के साथ पहले सामूहिक दुष्कर्म फिर पंचायत द्वारा पीड़िता को सजा देने के मामले में अब सियासत तेज हो गई है. बिहार में मुख्य विपक्षी दल आरजेडी ने इसे राज्य सरकार की लापरवाही बताया है. पार्टी नेता और विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा है कि पूरी घटना के लिए राज्य सरकार और इसकी मशीनरी जिम्मेदार है. 

भाई वीरेंद्र ने कहा है कि, जिस पुलिसिंग और कानून व्यवस्था की बात बिहार में हो रही है उस वक्त पुलिस कहां थी. जब पंचायत के फैसले के बाद पीड़ित को शर्मसार किया गया. जिसे न्याय मिलना चाहिए था उसे ही दोषी मान लिया गया. भाई वीरेंद्र ने कहा कि, वो नीतीश कुमार से इशारों-इशारों में इस्तीफे की मांग कर चुके हैं क्योंकि उनसे बिहार संभल नहीं रहा है.

 

गया की घटना के बाद जेडीयू और बीजेपी दोनों बैकफुट पर है. बिहार सरकार में मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि पुलिस जांच कर रही है. इसलिए ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता है. हालांकि पार्टी के दूसरे प्रवक्ता राजीव रंजन ने भरोसा जताया है कि पीड़ित नाबालिग लड़की से इंसाफ होगा और किसी को माफ नहीं किया जा सकता है. राजीव रंजन के मुताबिक, पीड़ित के साथ जो हुआ वो माफी के काबिल नहीं है लेकिन पीड़ित और पीड़ित के परिवार को बिहार सरकार में भरोसा रखना चाहिए.

दूसरी ओर बीजेपी ने भी पीड़ित के प्रति सहानुभूति जताई है और कहा है कि घटना गंभीर है. बिहार में सुशासन की सरकार है और जिन आरोपियों ने पीड़ित से गैंगरेप किया है और जिस पंचायत ने ये फैसला सुनाया है किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. बिहार में इन दिनों अपराध खासकर लड़कियों से होने वाले अपराध में खासा इजाफा हुआ है. सवाल आरोपियों के साथ-साथ पुलिस पर भी है. अब पीड़ित लड़की को इंसाफ कब तक मिलता है या फिर कागजी कार्रवाई की जाती है इस पर आम जनता के साथ-साथ बिहार के विपक्षी दलों को भी है.