बिहार: JDU ने PK को बताया 'पॉलिटिकल टूरिस्ट' तो RJD ने मांझी को दी नसीहत

आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर निशाना साधा है. उन्होने कहा कि जीतन राम मांझी इतनी जल्दी में क्यों हैं. वह कहते हैं कि मैं 40-50 सीटों पर चुनाव लडूंगा, लेकिन, थोड़ा इतिहास भी देख लें.

बिहार: JDU ने PK को बताया 'पॉलिटिकल टूरिस्ट' तो RJD ने मांझी को दी नसीहत
प्रशांत किशोर और जीतन राम मांझी. (फाइल फोटो)

पटना: चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) और हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (HAM) के प्रमुख जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) के बीच गुरुवार को मुलाकात हुई. अब इस मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं. दोनों दिग्गजों की बीच हुई इस सियासी मुलाकात पर आरजेडी से लेकर बीजेपी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर निशाना साधा है. उन्होने कहा कि जीतन राम मांझी इतनी जल्दी में क्यों हैं. वह कहते हैं कि मैं 40-50 सीटों पर चुनाव लडूंगा, लेकिन, थोड़ा इतिहास भी देख लें.

शिवानंद तिवारी ने कहा कि जीतन राम मांझी लोकसभा और बिहार विधानसभा उपचुनाव के परिणाम पर गौर क्यों नहीं करते हैं. उन्हें क्या कुछ मिला है. इसके साथ ही आरजेडी नेता ने मांझी को जल्दबाजी ना दिखाने की भी नसीहत दी है.

वहीं, जेडीयू कोटे से मंत्री नीरज कुमार ने इशारों-इशारों में प्रशांत किशोर को पॉलिटिकल टूरिस्ट बता दिया. उन्होने प्रशांत किशोर का बिना नाम लिए हुए कहा कि बिहार में गोवा के बाद सबसे ज्यादा टूरिस्ट आते हैं. यहां आकर टूरिस्ट लोग अध्यात्म की प्राप्ति करते हैं, तो ऐसे में कुछ पॉलिटिकल टूरिस्ट बिहार में भी घूम रहे हैं. 

नीरज कुमार ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव होना है, इसलिए पॉलिटिकल ट्यूरिस्ट आ रहे हैं. बिहार की जनता पॉलिटिकल टूरिस्ट को जवाब देना भली-भांति जानती हैं. गांव के लोग ऐसे पॉलिटिकल टूरिस्ट को आइना दिखा देंगे. उन्होंने कहा कि यह पॉलिटिकल टूरिज्म की जगह नहीं बल्कि स्पिरिचुअल टूरिज्म की जगह है.

वहीं, बीजेपी नेता अजीत चौधरी ने कहा कि महागठबंधन के जो घटक दल हैं, उसके कई नेता अपनी जमीन तलाश रहे हैं. कभी शरद यादव के अंदर नेतृत्व दिखता है तो कभी ओवैसी. आज प्रशांत किशोर को देख रहे हैं. अजीत चौधरी ने कहा कि महागठबंधन के तमाम नेता महत्वाकांक्षी लोग हैं. जिनका कोई धंधा नहीं है.

उन्होंने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा को पहचान नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और एनडीए (NDA) ने दिलाई है. जबकि प्रशांत किशोर को पहचान बीजेपी और जेडीयू (JDU) ने दिलाई है.