जेवीएम को लेकर विवाद जारी, प्रदीप-बंधु ने कांग्रेस के साथ विलय कराने की कर ली है तैयारी

दिल्ली में कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की मंगलवार को रांची पहुंचे. रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचे विधायकों ने पिछले दिनों कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला की मौजूदगी में पार्टी की आधिकारिक सदस्यता का ऐलान किया था.

जेवीएम को लेकर विवाद जारी, प्रदीप-बंधु ने कांग्रेस के साथ विलय कराने की कर ली है तैयारी
प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने ली कांग्रेस की सदस्यता, जेवीएम के विलय को लेकर विवाद जारी.

रांची: भले ही सोमवार को बाबूलाल मरांडी ने औपचारिक रूप से बीजेपी में जेवीएम का विलय कर लिया हो लेकिन झारखंड में विलय का सियासी ड्रामा अभी खत्म नहीं हुआ है. बाबूलाल मरांडी ने जहां बीजेपी से हाथ मिलाया तो वहीं पार्टी से निष्कासित किए गए दोनों विधायक बंधु तिर्की एवं प्रदीप यादव ने दिल्ली पहुंच कर कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली. 

इसके बाद पार्टी पर अधिकार को लेकर अब विवाद पनपता हुआ दिखाई दे रहा है. दिल्ली में कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की मंगलवार को रांची पहुंचे. रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचे विधायकों ने पिछले दिनों कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला की मौजूदगी में पार्टी की आधिकारिक सदस्यता का ऐलान किया था.

अब विवाद इस बात का है कि दो विधायक जिस तरफ हैं पार्टी उसी के साथ रहेगी न की बाबूलाल मरांडी के साथ. पार्टी से निष्कासित किए गए विधायकों ने कहा कि 2 दिन पहले ही जेवीएम के कार्यकर्ताओं की बैठक हुई थी जिसमें पार्टी के कांग्रेस में विलय के मुद्दे पर सहमति बनी थी. इसके बाद दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में इसकी घोषणा की गई.

प्रदीप यादव ने बयान दिया था कि असली जेवीएम का विलय राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस के साथ होगा. वहीं बंधु तिर्की ने कहा था कि कांग्रेस के बड़े नेताओं की मौजूदगी में सभा होगी और ऐतिहासिक कार्यक्रम में पार्टी का विलय होगा. आने वाले दिनों में पार्टी की जिम्मेदारी बढ़ेगी और पार्टी मजबूत होगी.

इससे पहले कांग्रेस ने कहा था कि जेवीएम के तीन में से दो विधायक हमारे साथ हैं तो दो तिहाई के बहुमत से पार्टी कांग्रेस के साथ विलय करेगी.