मरांडी के BJP में वापसी के बाद प्रदीप-बंधु ने थामा कांग्रेस का हाथ, कांग्रेस बोली-असली JVM हमारे साथ

दिल्ली में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करते हुए दोनों विधायकों की मौजूदगी में नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जेवीएम के 3 में से दो विधायक हमारे साथ हैं. पार्टी का विलय कांग्रेस में होगा. असली जेवीएम हमारे साथ है. झारखंड में तमाशा रचा जा रहा है.

मरांडी के BJP में वापसी के बाद प्रदीप-बंधु ने थामा कांग्रेस का हाथ, कांग्रेस बोली-असली JVM हमारे साथ
जेवीएम से निष्कासित विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने थामा कांग्रेस का दामन.

रांची: झारखंड की राजधानी में एक बड़े कार्यक्रम में जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने बीजेपी में विलय का औपचारिक ऐलान किया. इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) भी मौजूद थे. इधर मरांडी ने बीजेपी में विलय किया, उधर पार्टी से निष्कासित किए गए दोनों विधायकों ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली. लेकिन विवाद तो तब उठा जब प्रदीप यादव और बंधु तिर्की की मौजूदगी के बीच कांग्रेस ने यह ऐलान किया कि जेवीएम का विलय कांग्रेस में होगा. 

दरअसल, जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी और पार्टी के दोनों विधायकों के बीच बीजेपी से हाथ मिलाने को लेकर मतभेद था. प्रदीप यादव और बंधु तिर्की दोनों ही चाहते थे कि पार्टी का बीजेपी में विलय न हो, जबकि बाबूलाल मरांडी यह मन बना चुके थे कि वह घरवापसी करेंगे. इसको लेकर दोनों विधायकों ने यह चेतावनी भी दी थी कि वह दल बदल कानून के तहत जेवीएम के बैनर पर क्लेम कर सकते हैं.

दिल्ली में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करते हुए दोनों विधायकों की मौजूदगी में नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जेवीएम के 3 में से दो विधायक हमारे साथ हैं. पार्टी का विलय कांग्रेस में होगा. असली जेवीएम हमारे साथ है. झारखंड में तमाशा रचा जा रहा है.

वहीं इस दौरान प्रदीप यादव ने कहा कि सबों से बात करने के बाद यह निर्णय हुआ है कि जेवीएम कांग्रेस में विलय करेगी. आदिवासियों का हक कांग्रेस ही दिला सकती है. वहीं विधायक बंधु तिर्की ने कहा कि आग और पानी की कभी दोस्ती नहीं हो सकती है. बीजेपी हमारे लिए आग है और हम पानी हैं. 

वहीं इस मौके पर कांग्रेस नेता आरपीएन सिंह ने कहा कि विलय को लेकर एक भव्य कार्यक्रम होगा जिसमें राहुल गांधी भी मौजूद रहेंगे. उन्होंने कहा कि इस बाबत इरफान अंसारी से बात हो चुकी है. सब ठीक होगा. उन्होंने कहा कि दो तिहाई का बल ही किसी भी पार्टी में विलय का रास्ता है. दो विधायक हमारे साथ हैं, अब निर्णय विधानसभा को लेना है कि किसकी सदसय्ता रद्द होगी. 

इसके अलावा आरपीएन सिंह ने यह भी कहा कि इस देश में पोचिंग के वाइस चांसलर अमित शाह हैं. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आज अमित शाह ने मान लिया कि उनकी पार्टी में कोई चेहरा नहीं है. इस वजह से पोचिंग कर के बाबूलाल मरांडी को लाया गया है.