close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाढ़ पीड़ितों के चूहा खाने को लेकर सियासत तेज, मंत्री ने फोन कर डीएम से ली रिपोर्ट

कटिहार के बाढ़ पीडितों के वास्तविक हालात को जी मीडिया ने जैसे ही दिखाया, सरकारी तंत्र से लेकर सियासी गलियारे में हलचल मच गयी.

बाढ़ पीड़ितों के चूहा खाने को लेकर सियासत तेज, मंत्री ने फोन कर डीएम से ली रिपोर्ट
कृषि मंत्री ने कटिहार डीएम से ली जानकारी. (फाइल फोटो)

कटिहार : बिहार के कटिहार में बाढ़ पीड़ितों द्वारा चूहा खाकर दिन गुजारने की खबर का असर हुआ है. जी मीडिया ने खबर दिखाया तो मामले को लेकर सरकार एक्टिव हो गयी है. खबर दिखाए जाने के बाद कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कटिहार डीएम से फोन पर बात कर पीड़ितों को तुरंत राहत उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. वहीं, विपक्ष इस मामले में सरकार के पूरी तरह से फेल होने का दावा कर रहा है.

बिहार में बाढ़ पीड़ित अपनी भूख मिटाने के लिए चूहे खा रहे हैं. कटिहार के बाढ़ पीडितों के वास्तविक हालात को जी मीडिया ने जैसे ही दिखाया, सरकारी तंत्र से लेकर सियासी गलियारे में हलचल मच गयी.

विपक्ष ने सरकार पर हमला बोल दिया. हालात की गंभीरता को देखते हुए आरजेडी विधायकों ने सदन में एकबार फिर बाढ़ के मुद्दे पर कार्यस्थगन प्रस्ताव ला दिया. हालांकि मुख्यमंत्री की ओर से सदन में बाढ़ को लेकर सरकार का पक्ष रखने की बात पहले से तय थी. इसलिए विपक्ष के कार्यस्थगन प्रस्ताव पर विधानसभा अध्यक्ष ने विचार नहीं किया.

आरजेडी विधायक भाई वीरेन्द्र ने कहा कि बाढ़ में पीड़ितों के पास खाने के लिए अनाज तक नहीं हैं. आरजेडी ने लगातार मामले को उठाया है. अब यह भी खबर आ रही है कि बाढ़ पीड़ित चूहे खाकर जीने के लिए मजबूर हैं. सरकार बाढ़ पीड़ितों को मदद पहुंचाने में पूरी तरह फेल हो चुकी है.

वहीं, कांग्रेस विधायक अजित शर्मा ने भी सरकार से तुरंत बाढ़ पीड़ितों को मदद दिए जाने की अपील की है. सरकार को बाढ़ के मामले पर घेरने को लेकर जेडीयू विधायक ज्योति रवि ने कहा कि जिन लोगों ने बाढ़ राहत का घोटाला किया था, वो हमारी सरकार पर आरोप न लगायें तो बेहतर है. बीजेपी विधायक संजय सरावगी ने विपक्ष पर नकारात्मक राजनीति करने का आरोप लगाया है.

बीजेपी विधायक ने तो आरजेडी से पूछा है कि उन्हें पहले यह बताना चाहिए कि उनके नेता प्रतिपक्ष कहां हैं. सीएम नीतीश कुमार तो बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा कर राहत बचाव कार्य में लगे हैं. नेता प्रतिपक्ष को भी अपनी जवाबदेही निभानी चाहिए.

वहीं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी विधानसभा में बाढ़ के हालात को लेकर किए जा रहे कामों पर सरकार का पक्ष रखा. नीतीश कुमार ने कहा कि बाढ़ से 25 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. सरकार बाढ़ पीड़ितों के खाते में 6 हजार रुपये पहुंचाएगी.