झारखंड में निजी स्कूल सिर्फ शिक्षण फीस ले सकेंगे, सरकार ने जारी किया आदेश

निजी स्कूल सत्र 2020-21 हेतु विद्यालय शुल्क में किसी भी प्रकार की बढ़ोतरी नहीं कर सकेंगे. साथ ही, स्कूल का पूर्व व संचालन प्रारंभ होने से पहले मात्र शिक्षण शुल्क मासिक दर पर लिया जाएगा.

झारखंड में निजी स्कूल सिर्फ शिक्षण फीस ले सकेंगे, सरकार ने जारी किया आदेश
झारखंड में निजी स्कूल सिर्फ शिक्षण फीस ले सकेंगे, सरकार ने जारी किया आदेश.

रांची: कोरोना (Corona) संक्रमण के दौरान निजी विद्यालयों को सिर्फ शिक्षण फीस लेने का आदेश झारखंड सरकार ने जारी कर दिया है. इसके साथ ही, शिक्षा विभाग के द्वारा और भी निर्देश जारी किए गए हैं. इसके तहत-

निजी विद्यालय शैक्षणिक सत्र 2020-21 हेतु विद्यालय शुल्क में किसी भी प्रकार की बढ़ोतरी नहीं कर सकेंगे.

विद्यालयों का पूर्व व संचालन प्रारंभ होने से पहले मात्र शिक्षण शुल्क मासिक दर पर लिया जाएगा.

किसी भी परिस्थिति में शिक्षण शुल्क जमा नहीं करने के कारण, किसी भी छात्र का नामांकन रद्द नहीं किया जाएगा तथा, ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था की सुविधा से वंचित नहीं किया जाएगा.

विद्यालय में नामांकित सभी छात्रों को बिना किसी भेदभाव के ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था हेतु आईडी और पासवर्ड तथा ऑनलाइन शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराने की पूर्ण जिम्मेवारी विद्यालय प्रमुख की होगी.

विद्यालय बंद रहने की अवधि तक किसी भी प्रकार का वार्षिक शुल्क, यातायात शुल्क या अन्य किसी प्रकार का शुल्क अभिभावकों से नहीं लिया जाएगा. उक्त से संबंधित विद्यालय में पुनः शिक्षण कार्य प्रारंभ होने के पश्चात समानुपातिक आधार पर अभिभावकों से ली जा सकेगी.

विद्यालय में कार्यरत शिक्षक एवं  शिक्षकेतर कर्मचारियों के वेतन में किसी प्रकार की कटौती आरोप नहीं लगाई जाएगी.

विद्यालय प्रबंधन द्वारा शुल्क के लिए अभिभावक पर अतिरिक्त आर्थिक दबाव नहीं बनाया जाएगा.

उपरोक्त निर्देशों का पालन नहीं करने की स्थिति में संबद्धता हेतु राज्य सरकार द्वारा, निर्गत अनापत्ति प्रमाण पत्र रद्द पुनर्विचार किया जाएगा तथा आवश्यकतानुसार विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि, अभिभावक संघ ने सरकार से बुधवार को ही जल्द आदेश जारी करने को कहा था, नहीं तो गुरुवार से चरणबद्ध आंदोलन पर जाने की चेतावनी दी थी.