देवघर में भी दिखा बंद का व्यापक असर, टावर पर लोगों ने किया प्रदर्शन

देवघर के स्थानीय टावर चौक पर सभी दलों ने मिलकर चक्का जाम किया और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

देवघर में भी दिखा बंद का व्यापक असर, टावर पर लोगों ने किया प्रदर्शन
देवघर में भी दिखा बंद का असर.

देवघर : पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस ने आज भारत बंद बुलाया है. विपक्ष के इस बंद को 20 राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त है. भारत बंद को लेकर विपक्षी पार्टियों का सरकार के खिलाफ जोरदार आंदोलन देखने को मिला. देवघर के स्थानीय टावर चौक पर सभी दलों ने मिलकर चक्का जाम किया और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद पूरा शहर बंद रहा और दुकानें नहीं खुली. साथ ही बस एसोसिएशन द्वारा बंदी का समर्थन किए जाने के कारण यात्रियों को काफी परेशानियों का समाना करना पड़ा. श्रद्धालुओं को भी खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा.

बंदी के दौरान पेट्रोल डीजल की कीमतों में हो रही वृद्धि और महंगाई के खिलाफ सरकार की कार्य योजनाओं पर सवाल खड़ा करते हुए राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के पूर्व पर्यटन मंत्री सुरेश पासवान ने कहा कि सरकार तानाशाह हो गई है. गरीब विरोधी काम कर रही है. पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ जाने के कारण ना सिर्फ खेती प्रभावित हो रही है, बल्कि आवागमन के साधन के दर में भी वृद्धि हो गई है. इसका सीधा असर आम जनता पर पड़ रहा है.

जेवीएम, आरजेडी, कांग्रेस.झारखंड विकास मोर्चा और सीपीआई सहित तमाम दलों ने बंद का समर्थन किया और एक सुर में कहा कि यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक मोदी सरकार को गिरा नहीं देते. मंदिर के आसपास के कुछ दुकानों को छोड़कर तमाम दुकानें बंद रही. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बताया कि आज देश में रुपये की कीमत इतनी गिर गई है और पेट्रोल की कीमत इतनी बढ़ गई है कि जनता त्रस्त है. जनता विरोधी सरकार को गिराना ही मकसद है.

भारत बंद को लेकर कांग्रेसी नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे शांतिपूर्वक प्रदर्शन करें और किसी तरह के हिंसक प्रदर्शन में शामिल न हों. इसके बावजूद बिहार के कई हिस्‍सों में हिंसक प्रदर्शन हुए. जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पटना में वाहनों में तोड़फोड़ की.