CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर बैठे लोगों ने किया रक्तदान, कहा- सामाजिक जिम्मेदारी निभाना जरूरी

महात्मा गांधी के 72वीं पुण्यतिथि के मौके पर राजधानी के अंजुमन इस्लामिया द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं और पुरुष दोनों पहुंचकर रक्तदान महादान की तर्ज पर मुहीम का हिस्सा बन रहे हैं.

CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर बैठे लोगों ने किया रक्तदान, कहा- सामाजिक जिम्मेदारी निभाना जरूरी
रांची के कडरू में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने किया रक्तदान.

रांची: झारखंड के कडरू में महात्मा गांधी पुण्यतिथि के मौके पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. इसमें सीएए, एनआरसी के खिलाफ लगातार प्रदर्शन पर बैठी महिलाएं और पुरुषों ने भाग लिया. पिछले कई दिनों से प्रदर्शन पर बैठे लोगों ने इसे दिल्ली के शाहीन बाग के तर्ज पर ढ़ाल दिया है. 

महात्मा गांधी के 72वीं पुण्यतिथि के मौके पर राजधानी के अंजुमन इस्लामिया द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं और पुरुष दोनों पहुंचकर रक्तदान महादान की तर्ज पर मुहीम का हिस्सा बन रहे हैं.

बता दें कि एनआरसी-सीएए और एनपीआर के खिलाफ और सीएए को काला कानून बताते हुए रांची के कडरू में शाहीन बाग का नजारा देखने को मिल रहा है. यहां बीते कई दिनों से महिलाएं बड़ी संख्या में धरने पर बैठी हैं. लोगों ने इसे रांची का शाहीनबाग कहना शुरू कर दिया है. प्रदर्शन कर रही महिलाओं और छात्रों का कहना है कि जो कानून लाए गए हैं, वह संविधान के खिलाफ हैं. इसीलिए उनका प्रदर्शन लगातार जारी रहेगा, लेकिन इस प्रदर्शन के दौरान उनकी अन्य चीजों पर सामाजिक जिम्मेदारी भी बनती है. इसके तहत ही वह रक्तदान कर रहे हैं.

मामले की जानकारी देते हुए कैंप से जुड़े लोगों का कहना है कि रांची के सदर अस्पताल में कई ऐसे मरीज हैं, जो थालेसेमिक हैं. उनके लिए हर रोज काफी ज्यादा यूनिट की जरूरत होती है, क्योंकि यहां पर दूसरे राज्यों से भी मरीज आते हैं. यह रक्तदान उनके लिहाज से भी किया जा रहा है.